संजलि का शव जैसे ही गांव पहुंचा ग्रामीणों ने यह क्या किया देखिए

आगरा। 10वीं की छात्रा संजलि का शव दिल्ली से जैसे ही उसके गांव लालऊ पहुंचा। पूरा गांव मृतक के घर उमड़ पड़ा। भारी भीड़ के बीच मृतका संजलि को लेकर एंबुलेंस पहुँची तो ग्रामीणों ने एंबुलेंस को घेर लिया।

इस दौरान पुलिस प्रशासन भी मुस्तैद था। पुलिस के आला अधिकारी लालऊ गांव में डेरा डाले हुए हैं लेकिन जैसे ही संजलि के शव को एंबुलेंस से बाहर लाया गया वैसे ही ग्रामीणों ने जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। एक तरफ से आवाज आ रही थी संजलि हम शर्मिंदा हैं तेरे हत्यारे जिंदा है तो दूसरी ओर से पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी हो रही थी। आक्रोशित ग्रामीणों में पीड़ित परिवार के लिए जितनी संवेदना ही थी उतना आक्रोश पुलिस प्रशासन के खिलाफ भी था। जो उनके नारों में साफ झलक रहा था पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे जैसे ही गांव में लगे तो पुलिस प्रशासन के हाथ-पांव भी फूल गए। लेकिन पुलिस ने लोगों को समझा बुझा कर शांत किया।

संजलि के शव को देखकर हर ग्रामीण की आंख से आंसू बह रहे थे तो चारों ओर से सिर्फ एक ही आवाज आ रही थी कि संजलि के हत्यारों को फांसी हो फांसी हो फांसी हो। 48 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस प्रशासन के हाथ खाली हैं। संजलि के हत्यारे अभी तक पुलिस प्रशासन के हत्थे नहीं चढ़ पाए हैं जिससे ग्रामीणों का आक्रोश बढ़ता चला जा रहा है और यह आक्रोश पुलिस प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गया है। मंगलवार दोपहर को जब संजलि अपने स्कूल से घर जा रही थी तो दो अज्ञात बाइक सवारों ने पेट्रोल डालकर दिनदहाड़े संजलि को जिंदा जला दिया।।इस घटना में संजलि 75 प्रतिशत से अधिक जल गई। आनन फानन में संजलि को पहले एसएन भर्ती कराया गया और उसकी नाजुक स्थिति को देखकर दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया लेकिन 36 घंटे बाद संजलि ने दम तोड़ दिया। संजलि की मौत की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई और ग्रामीणों का आक्रोश पुलिस प्रशासन के खिलाफ बढ़ता चला गया। फिलहाल पुलिस मोर्चा संभाले हैं और सभी को आश्वस्त कर रही है कि संजली के हत्यारे जल्द गिरफ्तार होंगे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*