Home मेडिकल संदिग्ध बुखार से उपचार के दौरान डेढ़ माह के बच्चे की मौत, अस्पताल में परिजनों का हंगामा

संदिग्ध बुखार से उपचार के दौरान डेढ़ माह के बच्चे की मौत, अस्पताल में परिजनों का हंगामा

by admin
One and a half month old child dies during treatment with suspected fever, uproar of family members in hospital
Spread the love

आगरा जनपद के थाना कस्बा बाह क्षेत्र के अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर संदिग्ध बुखार के चलते एक डेढ़ माह के बच्चे की उपचार के दौरान मौत हो गई। आक्रोशित परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। पुलिस एवं स्वास्थ्य कर्मियों ने बमुश्किल परिजनों को समझाया, तब जाकर परिजन शांत हुए। बच्चे की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया है।

जानकारी के अनुसार थाना बासौनी क्षेत्र के अंतर्गत गांव झरनापुरा निवासी रामवीर सिंह के डेढ़ माह के पुत्र आशिक को 3 दिन से बुखार बना हुआ था। मासूम बच्चे का परिजन नजदीकी निजी डॉक्टर से इलाज करा रहे थे। शनिवार को बच्चे की बुखार के चलते तबियत अचानक बिगड़ गई। बुखार से पीड़ित बच्चे को परिजन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बाह लेकर पहुंचे जहां उन्होंने बच्चे को इलाज को भर्ती कराया। परिजनों का आरोप है बच्चा भर्ती कराने के बाद मौजूद स्वास्थ्य कर्मी द्वारा बुखार में ही गलत तरीके से इंजेक्शन बच्चे को लगा दिया गया। जिस कारण बच्चे का पेट फूल गया और सांस फूलने से हालत और ज्यादा बिगड़ गई।

चिकित्सकों द्वारा बच्चे को आगरा के लिए रेफर कर दिया। परिजन बच्चे को एंबुलेंस द्वारा आगरा के लिए ले ही जारहे थे कि बच्चे ने दम तोड़ दिया। जिससे परिजनों में कोहराम मच गया। बच्चे की मौत को लेकर एकत्रित परिजनों ने स्वास्थ्य कर्मियों पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मामले की परिजनों से जानकारी ली। वहीं पुलिस एवं स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा बच्चे के परिजनों को समझा कर शांत कराया गया। मामला समझने के बाद परिजन शांत हुए और मृत बच्चे के शव को लेकर घर वापस लौट गए।

इसी संदर्भ में सीएचसी केंद्र बाह प्रभारी डॉ जितेंद्र कुमार वर्मा ने बताया परिजन बच्चे को नाजुक हालत में किसी प्राइवेट डॉक्टर से इलाज करा कर अस्पताल लेकर आए थे। जहां बच्चे के इलाज के दौरान फेफड़ों में ऑक्सीजन लेवल एवं पल्स लेवल बहुत ही कम था। प्राथमिक उपचार के बाद हायर सेंटर आगरा के लिए रेफर किया गया। एंबुलेंस में ले जाते समय बच्चे ने दम तोड़ दिया था। परिजनों द्वारा इंजेक्शन लगाने एवं लापरवाही बरतने के आरोप निराधार हैं।

वहीं वायरल बुखार का प्रकोप लगातार बाह, पिनाहट, जैतपुर ब्लाक क्षेत्र के गांव में चल रहा है। संदिग्ध बुखार के चलते कई बच्चों की मौत हो चुकी है। वक्त पर सही इलाज नहीं मिलने के कारण मासूम छोटे बच्चों की मौत हो रही है। बच्चे की मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

Related Articles