Home बड़ी खबर शिक्षा के मंदिर में घिनौना काम, स्कूल प्रबंधक का एक महिला के साथ हमबिस्तर होने का वीडियो वायरल

शिक्षा के मंदिर में घिनौना काम, स्कूल प्रबंधक का एक महिला के साथ हमबिस्तर होने का वीडियो वायरल

by admin
Abominable work in the temple of education, the video of the school manager having a bed with a woman goes viral
Spread the love

आगरा। सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में शिक्षा के मंदिर में ही स्कूल प्रबंधक एक महिला के साथ हमबिस्तर होते हुए नज़र आ रहे है और यह सब प्रिंसिपल ऑफिस में ही हो रहा है। हालांकि बताया जा रहा है कि वीडियो 1-2 वर्ष पुराना है। मगर जिस तरीके का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, यह वीडियो हैरतअंगेज करने वाला है। सच्चाई जानने के बाद आपको हैरानी होगी कि जिस शिक्षा के मंदिर के अंदर आप अपने बच्चों को अच्छी तालीम लेने के लिए भेजते हैं। उसी शिक्षा के मंदिर के अंदर घिनौना कार्य किया जा रहा है। इस वीडियो को वायरल करने वाले लोग दावा कर रहे हैं कि यह वीडियो एत्मादपुर थाना क्षेत्र में स्थित वनस्थली स्कूल का है। दावा यह किया जा रहा है इस वीडियो में स्कूल के प्रबंधक और स्कूल की एक महिला शामिल हैं। हालांकि सच क्या है यह अभी सामने नहीं आया है। मगर वीडियो वायरल होने के बाद आगरा के तमाम समाजसेवी संगठनों, स्कूल संगठनों और समाज सेवा का कार्य करने वाले लोगों में तहलका मच गया है।

Abominable work in the temple of education, the video of the school manager having a bed with a woman goes viral

लोग इस घिनौने कार्य में लिप्त लोगों पर प्रभावी कार्यवाही की मांग कर रहे हैं। क्योंकि वीडियो पूर्ण तरीके से न्यूड है। इसलिए इसे सोशल मीडिया पर अपलोड नहीं किया जा सकता है। 4 मिनट 12 सेकेंड के इस वीडियो में उन पाखंडियो का चेहरा भी सामने आया है जो बच्चों को अच्छी तालीम देने का दावा करते हैं। फीस तो मनमानी वसूलते हैं मगर घिनौना चेहरा सामने आने वाले इन लोगों पर आगरा पुलिस प्रशासन का चाबुक कब चलेगा, यह देखने वाली बात होगी।

वहीँ वीडियो वायरल होने के बाद ऑल स्कूल वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष ने महानगर अध्यक्ष के रूप में काम करने वाले इस स्कूल के प्रबंधक को तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया है। शिक्षा के मंदिर के अंदर जो लोग इस तरीके का घिनौना कार्य कर रहे हैं। उन्हें कतई समाज में रहने की जरूरत नहीं है। ऐसे लोगों को केवल और केवल सलाखों के पीछे ही भेजना चाहिए।

Related Articles