राजबब्बर ने बांटा किसानों का दर्द, उन्नाव मामले में भाजपा पर हुए हमलावर

आगरा। बुधवार शाम को आगरा जिले में आए तूफान ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है। इस तूफान के कारण किसानों को जान और माल दोनों का भारी नुकसान हुआ है। शनिवार को आगरा आए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ अछनेरा और फतेहपुर सीकरी ब्लॉक का दौरा किया।

किसानों की वास्तविक स्थिति जानने के लिए मून ब्रेकिंग की टीम भी राजबबर के साथ निकल पड़ी। इस दौरान राजबबर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने पीड़ित किसानों से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने इस प्राकृतिक आपदा में सब कुछ गंवा चुके किसानों की वेदना जानी और उन्हें सांत्वना भी दी। अछनेरा और फतेहपुर सीकरी ब्लाक में कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने दर्जन भर से अधिक गांवों का दौरा कर यह जानने का प्रयास किया कि आखिर कर इस आपदा में किसानों को कितना नुकसान हुआ है।

कांग्रेस प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर को अपने बीच पाकर किसानों का दर्द छलक उठा। किसानों की आंखों में आंसू थे तो कहीं मातम सा छाया हुआ था। कोई किसान इस आपदा में हुए नुकसान के बारे में जानकारी दे रहा था तो कई किसानों ने तो इस आपदा में अपना सब कुछ लुट जाने की भी बात कही।

कांग्रेस प्रदेश को अपने दर्द से रूबरू कराने के दौरान किसानों ने साफ कहा कि इस दर्द को कोई भी महसूस नहीं कर सकता। किसान पहले से ही बोझ तले दबा हुआ था और इस चक्रवात ने किसानों के जले पर नमक छिड़कने का कार्य कर दिया है किसान पूरी तरह से टूट चुका है और यह तय नहीं कर पा रहा कि वह अब रोजी रोटी के लिए क्या करे।

किसानों के यह शब्द सुनकर राजबबर ने हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया। इस दौरान बबर उन किसानों के घर पहुँचे जिन लोगों ने फसल के साथ-साथ अपनों को खो दिया। वार्ता के दौरान ऐसा लगा कि किसान के मुख से शब्द निकले ही नहीं। इस आपदा के बाद यह किसान सुध बुध खो बैठे हो और अपने दर्द को अंदर ही अंदर दबाये हुए बैठे हैं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने हर जगह यही आलम पाया और हर किसान का दुख अपने साथ बांटने का भी प्रयास किया। उन्होंने बताया कि कांग्रेस और वह खुद किसानों के साथ खड़े हुए हैं। इस दौरान राजबब्बर ने केंद्र की मोदी और यूपी की योगी सरकार को आड़े हाथ लिया। उनका कहना था कि पहले कर्ज माफ़ी के नाम पर किसानों के साथ मजाक किया गया और अब कोई ठोस कदम नहीं उठाया। ऐसी सरकारों को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए।

राजबब्बर ने उन्नाव और कठुआ बलात्कार पर भी अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी। उनका कहना था कि बेटी बचाओ का नारा देने वाली सरकार के जनप्रतिनिधी ही बेटियों को नहीं जीने दे रहे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*