ऑस्ट्रेलिया खिलाडियों पर गिरी गाज़, 1 साल का लगा बैन

नई दिल्ली। बॉल टेम्परिंग विवाद में फंसे कंगारू कप्तान स्टीव स्मिथ को एक और झटका लगा है। ऑस्ट्रेलिया प्रधानमंत्री के हस्तक्षेप के बाद कड़ी कार्रवाई करते हुए ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट ने कप्तान स्टीव स्मिथ और उपकप्तान डेविड वॉर्नर पर एक साल का बैन लगा दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका में हुए बॉल से छेड़छाड़ विवाद के बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने ये फैसला लिया है। बोर्ड का मानना है कि इस गैरकानूनी काम से देश और टीम की साख गिरी है। इतना ही नहीं स्मिथ और वॉर्नर के बाद टीम के कोच डेरेन लेहमन पर भी गाज गिरी है।

आपको बता दें कि केपटाउन में ऑस्ट्रेलिया-साउथ अफ्रीका टेस्ट में टीम के बॉलर बैंक्रॉफ्ट बॉल से छेड़छाड़ करते हुए पकड़े गए थे। इसके बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटा दिया। वहीँ, IPL की टीम राजस्थान रॉयल्स ने भी उनसे कप्तानी छीन ली है। इन सब में नई बात ये सामने आई है कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने टीम कोच डेरेन लेहमन से भी इस्तीफा मांगा है। बता दें कि केपटाउन में साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन ऑस्ट्रेलियाई ओपनर कैमरन बेनक्रॉफ्ट बॉल टेंपरिंग करते हुए पकड़े गए। बेनक्रॉफ्ट को मैच के दौरान अपने ट्राउजर से पीले रंग की चीज निकालते देखा गया। इस घटना के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने बॉल टेंपरिंग की बात मानी।

इससे पहले ICC ने स्मिथ पर एक टेस्ट मैच के लिए बैन और मैच का 100 फीसद जुर्माना लगाया था, वहीँ, बैंक्रॉफ्ट पर मैच का 75 फीसद जुर्माना और 3 नेगेटिव पॉइंट भी दिए थे। क्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने भी इस घटना को ‘चौंकाने वाला और निराशाजनक कहा है। टर्नबुल ने कहा, ‘हम सभी सुबह-सुबह दक्षिण अफ्रीका की खबरों से निराश हुए। यह पूरी तरह से विश्वास से परे लग रहा था कि ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम धोखाधड़ी में शामिल थी।’

इससे पहले बैनक्राफ्ट ने कहा, ‘मैं गलत समय पर गलत जगह पर खड़ा था। मैं यहां (प्रेस कांफ्रेंस में) आना चाहता था क्योंकि मैं अपने कृत्य के लिए जवाबदेह होना चाहता हूं।’ स्मिथ ने कहा कि उन्होंने बैनक्रॉफ्ट के इस बारे में बात की थी (जेब में टेप लेकर जाने के बारे में) और टीम में बड़े लोग और अधिकारी इस बारे में हमेशा से जानते थे। उन्होंने कहा, ‘हमने ऐसा इसलिए किया क्योंकि हमें ऐसा लगता था कि हम इस तरह से दक्षिण अफ्रीका के ऊपर बढ़त हासिल कर लेंगे। हमें अपने कृत्य पर बहुत खेद है।’ उन्होंने कहा कि वह कप्तान पद से इस्तीफा नहीं देंगे।

गौरतलब है कि अंपायर निजेल लांग और रिचर्ड इलिंगवर्थ ने दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी के 43वें ओवर के दौरान बैनक्राफ्ट से बात की। कवर पर फ़ील्डिंग करते समय उनके हाथ में कोई चीज देखी गई जिसके बाद अंपायरों ने उनसे बात की। अंपायरों के पास जाने से पहले बैनक्राफ्ट को अपने अंत:वस्त्र में छोटी सी पीली चीज रखते हुए देखा गया। जब अंपायर उनसे बात करने के लिए पहुंचे तो उन्होंने पैंट की जेब में हाथ डालकर दिखाया और यह भिन्न वस्तु थे। वह धूप के चश्मे को साफ करने के लिए मुलायम कपड़े जैसा लग रहा था। बैनक्राफ्ट ने हालांकि बाद में संवाददाता सम्मेलन में स्वीकार किया कि वह टेप से गेंद की शक्ल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि अंपायरों ने इस बारे में उनसे बातचीत की, लेकिन फिलहाल इस बारे में ज्यादा जानकारी बाहर नहीं आई है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*