Home एजुकेशन सरकारी स्कूल में पढ़ाई छोड़ शिक्षक बच्चों से खुदवा रहे हैं घास, शिकायत करने पर देते हैं मुक़दमे की धमकी

सरकारी स्कूल में पढ़ाई छोड़ शिक्षक बच्चों से खुदवा रहे हैं घास, शिकायत करने पर देते हैं मुक़दमे की धमकी

by admin
After leaving studies in government school, teachers are digging grass from children, they threaten to sue if they complain
Spread the love

आगरा जिले में स्कूल खुलने के बाद सरकारी स्कूलों में बच्चे तो आने लगे हैं पर पढ़ाई के लिए उन्हें शिक्षकों का इंतजार करना पड़ रहा है। जहां शिक्षक आ रहे हैं, वहां बच्चों से घास खुदवाई जा रही है। सोशल मीडिया पर जिले के दो प्राथमिक विद्यालयों के वीडियो वायरल हुए हैं।

शासन के निर्देश पर 1 सितंबर से कक्षा 1 से 5वीं तक के स्कूलों को खोल दिया गया है। स्कूल खुलते ही पहले जैसे हालात नजर आ रहे हैं। आगरा जिले के दो प्राथमिक विद्यालयों के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। शनिवार को पिनाहट ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय कांकरि रजौरा में बच्चों की शिकायत है कि यहां कभी भी शिक्षक 12 बजे से पहले नहीं आते हैं और तब तक छुट्टी का समय हो जाता है। ऐसे ही गुरुवार को खेरागढ़ ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय वन कागारौल में लखनऊ से सफाई व्यवस्था की जांच करने आ रही उपनिदेशक की टीम के आने की सूचना पर विद्यालय के शिक्षकों ने बच्चों से पढ़ाई छुड़वाकर घास खुदवाना शुरू कर दिया।

After leaving studies in government school, teachers are digging grass from children, they threaten to sue if they complain

इस बाबत जब स्कूल प्रबंधन से सवाल किया गया तो प्रधानाचार्य राजेन्द्र कुमार ने मजबूरन बच्चों से काम करवाने और भविष्य में गलती न होने की बात कही है।

स्थानीय निवासी मुलायम सिंह यादव ने बताया कि पिनाहट ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय कांकरि रजौरा में स्कूल खुलने के बाद से आज तक कभी भी शिक्षक 12 बजे से पहले विद्यालय नहीं पहुंचे। किसी के विरोध करने पर पूरा स्टाफ एक होकर सरकारी काम में बाधा का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी देता है। गांव के नौनिहालों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। इस मामले में संवाददाता द्वारा शिक्षकों से संपर्क करने का प्रयास किया पर उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

वायरल हुई वीडियो को प्रभारी बीएसए ब्रजराज सिंह ने संज्ञान में लिया है और जांच कर कार्यवाही की बात कही है। प्रधानाचार्य से स्पष्टीकरण मांगा गया है।

Related Articles