Home क्राइम पालतू श्वानों को बाहर खुला छोड़ने का विरोध करने पर धमकाने का आरोप, शिकायत पर पहुंची पुलिस

पालतू श्वानों को बाहर खुला छोड़ने का विरोध करने पर धमकाने का आरोप, शिकायत पर पहुंची पुलिस

by admin
Accused of intimidation for opposing the release of pet dogs outside, police reached on complaint
Spread the love

Agra. थाना ताजगंज क्षेत्र में एक कॉलोनी में लोग सुबह शाम घूमने वाले श्वानों से परेशान हो गए हैं। कहीं श्वान उनके बच्चों को काट न ले, इस डर से बच्चे बाहर नहीं निकल पा रहे हैं तो वहीं पूरी कॉलोनी में गंदगी हो रही है। जब कुछ लोगों ने इसका विरोध किया तो श्वानों को पालने वाले पड़ोसी ने धमकाने की कोशिश की। यह आरोप लगाते हुए कॉलोनी में रहने वाली एक महिला ने इस संबंध में थाना ताजगंज में तहरीर दी है।

दरअसल थाना प्रभारी ताजगंज ओमकार बाजपेई डिफैंस एन्क्लेव सेमरी ताल पहुँचे। यहाँ पर उन्होंने पीड़ित पूनम और उसके परिवार जनों से मुलाकात की। पीड़ित ने आवारा श्वानों के कारण होने वाली समस्या की शिकायत की थी। क्योंकि पड़ोसी के श्वान कई बार उनके बच्चों को अपना शिकार बना चुके थे और कई बार कहासुनी भी हुई। इस संबंध में पीड़ित पूनम ने तहरीर दी थी जिसके बाद पड़ोसी ने उन्हें धमकाया भी था। एक एनजीओ के सहारे वो उन्हें यह दर्शना चाहती है कि कॉलोनीवासी श्वानों के विरोध में है। एनजीओ के माध्यम से नोटिस भी दिलवाए गए जबकि उन्हें अपने बच्चों की सुरक्षा की चिंता है। पीड़ितों का कहना है कि पड़ोसी श्वानों को पाले लेकिन उन्हें अपने घर के अंदर जो रखें, उन्हें बाहर कॉलोनी में आवारा की तरह क्यों छोड़ देते हैं।

ताजगंज प्रभारी ने पीड़ित परिवार से मुलाकात करने के बाद कॉलोनी के अन्य लोगों से भी वार्ता की। कॉलोनी वासियों ने थाना प्रभारी ताजगंज को बताया कि एक परिवार ने 10-12 आवारा कुत्तों को अपने घर में पाल रखा है जो कि उचित नहीं है। ये लोग कुत्तों को सुबह शाम घर से बहार निकाल देते है जो पूरी कॉलनी मे गंदगी करते हैं, बच्चे डर से घर के बाहर भी नहीं निकल सकते। इन लोगों से कॉलोनी वाले शिकायत करते हैं तो पूरा घर लड़ाई झगड़ा करता है और गाली गलौज भी की जाती है।

इनकी शिकायत पर थाना प्रभारी द्वारा ताजगंज द्वारा कॉलनीवासियों को आश्वासन दिया गया कि इस मामले से उच्च अधिकारियों को अवगत कराकर जल्द से जल्द समस्या का हल निकाल कर उचित कार्यवाही की जाएगी।

Related Articles