इलाज के नाम पर बंट रही है मौत, अवैध अस्पतालों की लिस्ट जारी

आगरा। शहर में तो मानो फर्जी हाँस्पिटल्स, पैथौलाजी और डायगनौस्टिक सैन्टरों की बाढ़ सी आ गई है। केवल यमुनापार में ही सौ से अधिक ऐसे अस्पताल हैं जो गली-कूचों में खुले हुये हैं तो वहीं कुछ तो दो कमरों के घरों से ही संचालित हो रहे हैं। जिला प्रशासन के डंडे पर स्वास्थ्य महकमा सक्रिया हुआ और एक हफ्ते में करीब पाँच फर्जी अस्पतालों को सील किया जा चुका है। इन अस्पतालों का ना तो रजिर्स्ट्रेशन है और ना ही आई.सी.यू और एम्बूलेंस के मानक ही पूरे हो रहे हैं। स्वास्थ्य महकमे ने अब इन फर्जी अस्पतालों के चिन्हीकरण की कारवाई शुरू कर दी है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो बहुत जल्द आगरावासी इन फर्जी डाँक्टरों के मकड़जाल से बच सकेंगे जो मरीजों को खुलेआम लूटते हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने जिन अस्पतालों को चिन्हित किया है वो आगरा शहर के उन अस्पतालों में शामिल है जहां खुलेआम मौत का सौदा किया जाता है। इलाज के नाम पर किसी की किडनी तो शरीर के कई अंग तक गायब कर दिए जाते है। भगवान का दूसरा रूप कहे जाने वाले फर्जी चिकित्सक खुलेआम मौत के सौदागर बने हैं। इतना ही नहीं बल्कि फिरोजाबाद की ओर से आने वाली हर एक एंबुलेंस पर यहां के फर्जी अस्पताल का ठेका है। सड़क हादसा हो या फिर बीमार आदमी, एंबुलेंस सीधे इन फर्जी डॉक्टरों तक मरीजों को पहुंचती है। इसके लिए एम्बुलेंस संचालक को कमीशन मिलता है। कमीशन के एवज में एंबुलेंस चालक और यह फर्जी डॉक्टर मिलकर गोलमाल कर लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं।

यह कोई पहला वाकया नहीं है जब आईएमए ने फर्जी चिकित्सकों के खिलाफ लड़ाई लड़ने की बात कही हो। इससे पहले भी आईएमए ने कई बार ऐसी सूचना जारी कर इन पर कार्यवाही की मांग की। मगर चिकित्सा विभाग खुद इस गंदगी में लिप्त है। इसलिए वर्षों से चिकित्सा विभाग कुंभकरण की नींद सो रहा था। चिकित्सा विभाग की सांठ-गाठ ने इस सेवा के कार्य को व्यवसाय बनाया और आगरा का रामबाग इलाका अस्पतालों की मंडी बन गया है।

हाल ही में एक पीड़ित जो इन फर्जी चिकित्सकों का शिकार बना उसने सीधे जिला अधिकारी आगरा और मंडलायुक्त आगरा को फर्जी चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर पत्र लिखा। उसकी शिकायत के बाद जिला प्रशासन और चिकित्सा विभाग जागा। आलम यह है कि आईएमए ने पूरे आगरा शहर के फर्जी अस्पतालों की लिस्ट जारी कर दी है जिसको लेकर फर्जी डॉक्टरों, एंबुलेंस चालकों, पैथोलॉजी लेब और इस खेल में शामिल मौत के सौदागरों में हड़कंप मचा हुआ है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*