Home देश-विदेश पलक झपकते ही गायब हो जाएगा ताज़महल, ताज़ पार्श्व में अक्टूबर के महीने से हो रही है ये तैयारी

पलक झपकते ही गायब हो जाएगा ताज़महल, ताज़ पार्श्व में अक्टूबर के महीने से हो रही है ये तैयारी

by admin
Taj Mahal will disappear in the blink of an eye, this preparation is being done in the Taj side from the month of October
Spread the love

Agra. यदि पलक झपकते ही ताजमहल आपके सामने से गायब हो जाए और फिर से अपने स्वरुप में आ जाए तो सैलानियों के लिए ये दृश्य कितना रोमांचित करने वाला होगा। जी हां, कुछ यही अक्टूबर के महीने से सैलानियों को देखने को मिलेगा। यह सब ताजमहल के पार्श्व में देखा जा सकेगा।

वीकेंड लॉकडाउन खत्म होने के साथ ही आगरा प्रशासन ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कवायदें करना शुरू कर दिया है। हाल ही में एडीए ने फतेहाबाद रोड पर बने सेल्फी पॉइंट की शुरुआत की है तो वहीं अब ताज व्यू प्वाइंट और ग्यारह सीढ़ी पार्क पर्यटकों के लिए आकर्षित बनाने की कवायदें की जा रही है। पर्यटन को बढ़वा देने के लिए विभिन्न गतिविधियों को कराने के लिए कमिश्नर अमित गुप्ता ने विशेष रुचि ली है।

ताज व्यू प्वाइंट और ग्यारह सीढ़ी पार्क को आकर्षित बनाने और पर्यटकों के लिए विभिन्न गतिविधियां आयोजित करने हेतु कमिश्नर अमित गुप्ता ने संबंधित विभागीय अधिकारियों, पर्यटन व्यवसायियों, गाइड और प्राइवेट कंपनी के अधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक के दौरान ताज व्यू प्वाइंट और ग्यारह सीढ़ी पार्क में इवेंट पर्यटकों के लिए विभिन्न इवेंट जैसे मैजिक शो, क्राफ्ट मेला, मैरिज इवेंट, ताजमहल को विविध रूपों में दिखाने के लिए मेहताब बाग, ताज नेचर वाक और ताज खेमा से भी ताज को दिखाये जाने की योजना पर विचार विमर्श हुआ।

11 सीढ़ी संरक्षित स्मारक है। ताजमहल की ओर से हंड्रेड मीटर का हिस्सा खाली छोड़ने के बाद यहाँ आयोजन कराए जा सकते हैं। खास बात यह है कि 11 सीढ़ी से ताजमहल का दीदार काफी अच्छा दिखाई देता है। इस पार्क और ताज के बीच में कुछ भी नहीं है बल्कि कलकल बहती यमुना है। यह नजारा किसी भी सैलानी को अपनी ओर आकर्षित कर सकता है। इस क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए मंडलायुक्त अमित गुप्ता ने व्यक्तिगत रूचि दिखाते हुए यहां गतिविधियां शुरू कराये जाने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है।

मंडलायुक्त, एडीए, एएसआई, पर्यटन व पुलिस अधिकारियों के अलावा ठेका लेने वाले कंपनी के प्रतिनिधि होटल और गाइड एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ 11 सीढ़ी पार्क पहुँचे। यहाँ पर कंपनी के प्रतिनिधियों ने सभी के सामने अपना प्रेजेंटेशन भी दिखाया।

मंडलायुक्त ने बताया कि एएसआई की शर्तों और प्रतिबंधों को देखते हुए जो बेहतर होगा उसे करने के लिए कंपनी को कहा गया है। कंपनी ने अक्टूबर माह से इस तरह के आयोजन करने का आश्वासन दिया है। मैजिक शो, क्राफ्ट मेला, मैरिज इवेंट के लिए एडीए ने दिल्ली की एक कंपनी को 3 साल के लिए ठेका दे दिया गया है।

ये है योजना:-

1:- यहाँ मेजिक शो के जरिए सैलानियों का मनोरंजन किया जाएगा।
2:- मैरिज इवेंट के आयोजन से इस साइट का प्रचार किया जाएगा।
3:- क्राफ्ट मेले के आयोजन से देशभर के लोगों को जोड़ने का प्रयास होगा।
4:- बच्चों के मनोरंजन के लिए छोटे झूले लगाने की भी योजना है।
5:- सेल्फी पॉइंट बनाकर लोगों के आवागमन को यादगार बनाया जाएगा।
6:- खानपान स्टॉल भी लगाए जाने की योजना है।
7:- सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस चौकी को ओर अधिक दुरुस्त बनाया जाएगा।
8:- गाइड के माध्यम से सैलानियों की अधिक से अधिक विजिट कराई जाएगी।
9:- मेहताब बाग से रिवर व्यू पॉइंट की खाली पट्टी पर विकसित होगा गार्डन
10:- ताज व्यू पॉइंट का ज्यादा से ज्यादा प्रचार प्रसार किया जाएगा।

होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश चौहान ने कहा कि ताज व्यू प्वाइंट के प्रचार-प्रसार के लिए होटलों को छोटी स्टैंडी उपलब्ध कराई जाएं, जिससे कि वो इसका प्रचार कर सकें। उन्होंने यमुना ब्रिज स्टेशन से मेहताब बाग तक आने वाली रोड के सुधार, लाइट लगवाने और पर्यटकों की सुरक्षा की उचित व्यवस्था करने को कहा।

कमिश्नर अमित गुप्ता ने इसके लिए होटलों में स्टैंडी लगवाने, टोल प्लाजा पर टिकट के साथ ताज व्यू प्वाइंट का एडीए द्वारा प्रचार करने, टूर आपरेटर्स के साथ बैठक कर व्यू प्वाइंट की खूबियां बताने के निर्देश दिए। सेलेब्रिटी को ताज व्यू प्वाइंट घुमाने, मुख्य जगहों पर ताज व्यू पवाइंट के साइनेज लगवाने, पर्यटकों की सुरक्षा को पुलिस की गश्त बढ़ाने, इंटरनेट मीडिया में व्यू प्वाइंट के फोटो व वीडियो अपलोड करने, रजिस्टर्ड गाइडों को ग्रुप में पर्यटकों की टिकट बुकिंग कराने की सुविधा देने के निर्देश उन्होंने दिए।

इस दौरान भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से अनुमन्य कार्य ही करने को कहा। नगर आयुक्त निखिल फुंडे, एडीए उपाध्यक्ष राजेंद्र पैंसिया, अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार, अनिल शुक्ला, अभिमन्यु कुमार, आरके सिंह, संजय शर्मा, दीपक दान, पवन अग्रवाल, प्रमोद अरोड़ा आदि मौजूद रहे।

Related Articles