हिंसक आंदोलन में हुए नुकसान पर रेलवे ने हज़ारों के खिलाफ दर्ज़ किया मुक़दमा

आगरा। एससी एसटी एक्ट को लेकर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद पूरे देश में भारत बंद आंदोलन के दौरान हिंसात्मक प्रदर्शन देखने को मिला था। आगरा जिला भी इससे अछूता नजर नहीं रहा। शहर में तोड़फोड़ आगजनी लूटपाट के साथ साथ सबसे ज्यादा नुकसान रेलवे को हुआ था।

प्रदर्शनकारियों ने सुबह से ही अपनी मांगों को मनवाने के लिए रेलवे ट्रैक को कब्जा लिया था। देर शाम तक इन ट्रैक पर संचालन शुरू नहीं हुआ था। इतना ही नहीं दलित समाज के लोगों ने बारह खंबा, शाहगंज और नगला छऊआ पर तो रेलवे ट्रैक को नुकसान पहुंचाया।

जीआरपी ने इस मामले में रेलवे की ओर से मुकदमा दर्ज किया है। जीआरपी ने अपनी ओर से 2000 लोगों के खिलाफ मुकदमा लिखा है तो वहीं आगरा फोर्ट से रेलवे अधिकारियों ने 2100 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। जीआरपी ने मुकदमा लिखे जाने के बाद फोटो के आधार पर लोगों को चिन्हित करना शुरू कर दिया है और अब तक कई लोगों को जेल भी भेजा जा चुका है।

जीआरपी कैंप इंस्पेक्टर अश्वनी कुमार ने बताया कि इस प्रदर्शन के दौरान रेलवे की संपत्तियों को काफी क्षति पहुंची है जिससे संचालन ठप्प पड़ गया था। अब ऐसे लोगों को चिन्हित करके जेल भेजा जा रहा है जिन्होंने आंदोलन के नाम पर रेलवे ट्रैक उखाड़ दिए थे और संचालन बाधित किया था।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*