ट्रेनों में वारदातों का शिकार होने वाले यात्रियों को अब नहीं लगाने होंगे जीआरपी थाने के चक्कर

आगरा। चलती ट्रेनों में अपराधिक वारदातों का शिकार होने वाले रेल यात्रियों को अब जीआरपी थाने के चक्कर नहीं लगाने होंगे। यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए एसपी रेलवे नितिन तिवारी के आदेश पर आगरा रेल मंडल के सभी प्रमुख स्टेशनों पर जीआरपी सहायता बूथ बनाया है जिसकी शुरुआत आगरा कैंट रेलवे स्टेशन से की गई है।

रविवार को SP रेलवे आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पहुंचे जहां पर SP रेलवे ने जीआरपी कैंट इंस्पेक्टर के साथ मिलकर आगरा कैंट स्टेशन पर जीआरपी बूथ का फीता काटकर शुभारंभ किया। SP रेलवे नितिन तिवारी का कहना था कि कैंट स्टेशन पर बनाया गया बूथ 24 घंटे कार्य करेगा। यहां पर जवानों की तैनाती रहेगी जो हर रेलयात्री पीड़ित की सुनवाई करेंगे साथ ही उनकी तुरंत FIR दर्ज कर मामले की जांच पड़ताल में जुट जायेंगे।

इतना ही नहीं आगरा कैंट स्टेशन आम रेल यात्री को जीआरपी के कार्यों से रूबरू कराने के लिए बनारस की रहने वाली फोटोग्राफर स्नेहा अरोड़ा ने बीड़ा उठाया है। बनारस की फोटोग्राफर स्नेहा अरोड़ा ने आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर जीआरपी के कार्यों की एक विशाल प्रदर्शनी लगाई है। इस प्रदर्शनी में स्नेहा अरोड़ा ने 40 ऐसे फोटो लगाए हैं जिनके माध्यम से आम यात्री यह जान सके कि आखिर GRP है क्या और उसके क्या कार्य हैं। वह यात्रियों की मदद कैसे कर सकती है।

आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर जीआरपी के कार्यों से लोगों को रूबरू कराने के लिए लगाई गई प्रदर्शनी का शुभारंभ SP रेलवे नितिन तिवारी ने फीता काटकर किय। इस दौरान SP रेलवे ने अधिनियम अधिकारियों के साथ इस पूरी प्रदर्शनी का अवलोकन किया साथ ही जीआरपी की साख को बनाए रखने के लिए स्नेहा अरोड़ा के इस प्रयास की सराहना कर उन्हें धन्यवाद भी दिया।

इस प्रदर्शनी को लगाने वाली स्नेहा का कहना था कि वह इस समय जीआरपी को लेकर अभियान चला रही हैं। इस अभियान के तहत उन्होंने लखनऊ और बनारस में भी इस तरह की प्रदर्शनी लगाई है और अब आगरा कैंट स्टेशन पर इसका आयोजन किया जा रहा है। उनका कहना था कि रेल यात्री सिविल पुलिस के अंतर को नहीं समझते इसलिए इस प्रदर्शनी के माध्यम से उनके कार्य और उनसे कैसे मदद ली जा सकती है यह दर्शाया गया है।

शहर वासियों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं, मून ब्रेकिंग

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*