बृज में खेली गयी लड्डू होली, देश-विदेश के लाखों श्रद्धालुओं ने लिया भाग

मथुरा। आज बरसाना में विश्व प्रसिद्ध लाडली जी मंदिर में लड्डू मार खेली गई होली। लड्डू मार होली में शामिल होने के लिए देश विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु बरसाना पहुँचे जहाँ सभी ने मिलकर लड्डू मार होली खेली।

इस बार होली को लेकर प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के किए पुख्ता इंतजाम कर रखे है क्योंकि रविवार की बरसाने में लट्ठमार होली का आयोजन होगा जिसमें यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ भी शामिल होंगे।

बता दें कि राधा कृष्ण के प्रेम में रंगने के लिए दूरदराज से लाखों की संख्या में श्रद्धालु बरसाना पहुंचते हैं और लड्डू मार होली के विहंगम दृश्य को देखने के लिए आते रहते हैं। दोपहर होते ही भक्तों का मेला श्रीजी मंदिर में जुड़ जाता है और हाथ ऊपर उठाए राधे राधे की रट लगाए कपाट खुलने का इंतजार करते हैं। मन्दिर के कपाट खुलते ही मंदिर में लड्डू मार होली का उत्सव शुरू हो जाता है। भक्त श्री जी के दर्शन कर उन्हें गुलाल और लड्डू अर्पित करते हैं। नंदगांव से कृष्ण स्वरूप शाखा सज धज कर बरसाने फ़ाग मनाने आते हैं। गोस्वामी उन्हें बूंदी के लड्डडूयो से उनका स्वागत करते हैं। चारों तरफ से लड्डूओं की बरसात होने लगती है और लड्डुओं को लूटने के लिए असंख्य लोगों के हाथों ऊपर खड़े हो जाते हैं और उस प्रसाद को पाने के लिए आतुर रहते हैं। समूचा मंदिर प्रांगण राधा कृष्ण के प्रेम में सराबोर हो जाता है जिसके बाद राधा कृष्ण के भजनों का और होली के गीतों का मंदिर प्रांगण में स्वर सुनाई देने लगता है। भक्त राधा कृष्ण के प्रेम में सरोवर होकर नाचने लगते हैं।

इस परंपरा का आयोजन द्वापर युग से ही होता चला आ रहा है। समूचा विश्व ब्रज की होली को भगवान श्री कृष्ण और राधा रानी के प्रेम की अनूठी मिसाल मानता है।

आज सुबह पहले बरसाना की राधा न्योता लेकर नंद भवन पहुँची जहाँ उस सखी रुपी राधा जोरदार स्वागत किया जाता है।जिसके बाद वह नंदगांव से शाम के समय पन्डा रूपी सखा को राधा रानी के निज महल में भेजते हैं जो होली के निमंत्रण को स्वीकार कर का बताने आते है। यहाँ पर के गोस्वामी समाज लड्डुओं से उसका स्वागत करते हैं। इसी को लड्डू होली कहा जाता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*