राहुल गांधी की ‘न्याय’ योजना पर भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशी के बीच तेज हुई जुबानी जंग

आगरा। रविवार को लोकसभा नामांकन को लेकर नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी होनी थी जिसको लेकर जिला प्रशासन ने सभी प्रत्याशियों को जिला मुख्यालय बुलाया था। जिला मुख्यालय पहुँचे भाजपा के प्रत्याशी एसपी सिंह बघेल और कांग्रेस प्रत्याशी प्रीता हरित के बीच जुबानी जंग शुरु हो गयी।

मीडिया से रूबरू होते हुए भाजपा प्रत्याशी एसपी सिंह बघेल ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के 72 हज़ार रुपये सालाना वाले बयान को लेकर निशाना साधा। उन्होंने साफ कहा कि चुनाव को लेकर राहुल गांधी अब जुमले बाजी करने लगे है जिसके चलते 12 हजार रुपये साल 5 करोड़ गरीब परिवारों को देने का वायदा कर दिया है। इतना ही नही भाजपा प्रत्याशी ने राहुल गांधी पर चुटकिया लेते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने यह तो बहुत कम किया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चाहे तो आसमान से चांद भी ला सकतें है। ज़मीन पर सितारे भी ला सकते है। सूरज भी ला सकते है। इतना ही नही दिन में एक नही दो दो सूरज भी उगा सकते है। उनका कहना था कि जो हारने वाला है और जिसे मई में शपथ ही नही लेनी है वो कैसे भी वायदे कर सकता है। यह अकल्पनीय वायदा है। अगर कोई ज़िम्मेदारी इस बात को कहे तो मान भी लिया जाए लेकिन जो गम्भीर ही नही है जिम्मेदार ही नही है उसकी बात पर ध्यान नही दिया देता है।

भाजपा प्रत्याशी ने जैसे ही कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा तो उसका जवाब देने में कांग्रेस प्रत्याशी प्रीता हरित भी पीछे नजर नही आई। कांग्रेस प्रत्याशी प्रीता हरित ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के 72 हज़ार रुपये सालाना गरीब लोगों को दिए जाने वाले बयान को सही बताया तो कांग्रेस प्रत्याशी ने चौकीदार कहते हुए प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। प्रत्याशी ने भाजपा प्रत्याशी एसपी सिंह बघेल पर पलटवार लड़ते हुए कहा कि राहुल गांधी का 72 हजार वाला बयान जुमला नही बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देश के हर व्यक्ति को 15-15 लाख रुपये खाते में आने वाला बयान जुमला निकला जो इन पांच सालों में हवाहवाई हो गया। राहुल जी का 6 हज़ार प्रति माह देने का जो वायदा है उससे 5 करोड़ गरीब परिवार और 25 करोड़ जनता को लाभ मिलेगा। देश के युवा वर्ग को काफी राहत मिलेगी। मोदी जी ने किसानों को मरहम के नाम पर तीन- तीन रुपये दिए है। तीन रुपये ज़मीन पर पड़े हो तो कोई बच्चा भी नही उठाता है तो किसानों और गरीब लोगों का क्या भला होगा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*