एस्मा लगाए जाने के बावजूद लेखपालों ने जारी रखा धरना, दी तीखी प्रतिक्रियाएं

आगरा। प्रदेश सरकार की ओर से आंदोलित लेखपालों पर एस्मा लगाए जाने के बावजूद लेखपाल अपनी मांगों को लेकर पीछे हटने को तैयार नही है। एस्मा लगाए जाने के बाद भी सोमवार को उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ की ओर से प्रदेश भर में धरना प्रदर्शन किया गया जिसकी झलक आगरा तहसील में देखने को मिली। सोमवार को इस धरने में शामिल हुए लेखपाल जोश से भरे हुए नजर आए। सदर तहसील में सुबह 10 बजे शुरू हुआ धरना शाम 4 बजे तक चला। सोमवार को इस धरने की अध्यक्षता सुरजीत सिंह ने की। धरने में शामिल लेखपालों ने सरकार द्वारा एस्मा लगाये जाने पर आक्रोश रोष व्यक्त किया और अपनी तीखी प्रतिक्रिया भी व्यक्त की।

लेखपालों का कहना था कि अपनी मांगों को लेकर काफी समय से लेखपाल संघ प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंप चुका है लेकिन सरकार ने कोई सुनवाई नही की। इसलिए सरकार ने आंदोलन के अतिरिक्त कोई विकल्प शेष नही रखा। ढाई साल में मुख्यमंत्री राजस्व मुखिया होने के बाद भी एक बार भी संघ को वार्ता के लिये नही बुलाया जबकि लेखपाल संघ के द्वारा सरकार को बार बार संज्ञान दिलाने की कोशिश की गयी। ज्ञापन, काली पट्टी बांधकर काम करना, कलमबंद प्रदर्शन, रक्तदान, रक्त से पत्र लिखकर अपना आक्रोश जताना, जनप्रतिनधियो, विद्यायक, सांसद से समर्थन पत्र भेजना, कैंडिल मार्च, मोटर साइकिल रैली, विधान सभा घेराव के बावजूद सरकार के द्वारा कोई संज्ञान नही लिया गया।

सरकारी कर्मचारी शासन से ही उम्मीद और अपेक्षा रखता है राजस्व परिषद के द्वारा संस्तुति सहमति अनुमोदन के बाद भी सरकार के द्वारा ढाई साल में कैबिनेट की बैठक में लेखपाल की मांग पर कोई वार्ता नही हुई और कोई प्रस्ताव भी नही लाया गया।

इस बीच सरकार ने दो बार एस्मा लगा कर लेखपालों का उत्पीड़न करना शुरू कर दिया है जबकि विगत ढाई साल में सरकार की योजना प्राथमिकता के साथ पूर्ण किया। विगत पांच साल में बिना संसाधन, नेट सुविधा के अपने धन से देर रात आय जाति निवास प्रमाण पत्र का कार्य साइबर कैफे में के माध्यम से किया जाता रहा। आज भी बिना नेट मानदेय और सिम के लेखपाल शासन के सभी कार्य निस्तारित कर रहे है।

जिलाध्यक्ष चौधरी भीम सेन ने राजस्व परिवार के संगठन उ0प्र0 राजस्व महासंघ व अन्य कर्मचारी संगठन से संघ के मान सम्मान अस्मिता में सभी एक साथ एक मंच पर आने का आह्वान किया गया। धरने में शामिल अमीन संघ के जिलाध्यक्ष अजय सिंह तोमर व ग्राम प्रधान खासपुर उदयवीर सिंह एवम ग्रामप्रधान संगठन ने संघ की मांग को जायज बताया और लेखपालो के संघर्ष को अपना पूर्ण नैतिक समर्थन सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया।

लेखपालों ने साफ कर दिया है कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाएंगी यह आंदोलन अनवरत रूप से चलता रहेगा।

About admin 2994 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।