आगरा की सरजमीं से भाजपा ने की चुनावी रैलियों की शुरुआत, अमित शाह ने विपक्ष पर जमकर साधा निशाना

आगरा। लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा की चुनावी रैलियों की शुरुआत कर दी है। रविवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने लोकसभा प्रत्याशी एसपी सिंह बघेल और सीकरी से राजकुमार चाहर के समर्थन में आगरा कॉलेज मैदान पर विजय संकल्प रैली को संबोधित किया। भारत माता के जयकारे से विजय संकल्प सभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने विपक्ष पर जमकर हमला बोला। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह बोले- बार-बार पूछता हूं कि गठबंधन का नेता कौन है, तो जवाब नहीं मिलता है। लोकतंत्र में कोई प्रधानमंत्री मन के लिए बनना चाहता है तो किसी की उम्र निकली जा रही है। प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी कोई बच्चों का खेल नही है। सभा मे मौजूद लोगों से सवाल करते हुए शाह ने पूछा कि प्रधानमंत्री सुरक्षा के लिए होना चाहिये या नहीं, प्रधानमंत्री पाकिस्तान को जवाब देने वाला होना चाहिये या नहीं। अमित शाह के इस अंदाज से आगरा कॉलेज मैदान ‘मोदी है तो मुमकिन है’ के नारों से गूंजने लगा।

अमित शाह बोले – गठबंधन का कोई नेता तय ही नहीं है, यदि गठबंधन की सरकार बनी, तो प्रधानमंत्री कौन होगा। आजकल व्हाट्सअप पर यह मैसेज चल रहा है। इस पर कार्यकर्ता ने कहा कि गठबंधन के पास प्रधानमंत्री है क्या, इस पर उन्होंने पूछा कौन हैं, तो जवाब मिला, कि सोमवार को मायावती, मंगलवार को अखिलेश यादव, बुधवार को शरद पवार, गुरुवार को राज ठाकरे, शुक्रवार को ममता बनर्जी, शनिवार को चन्द्र बाबू और रविवार को देश अवकाश पर चला जायेगा।
इस दौरान अमित शाह ने कहा कि वोट बैंक के लिए विपक्ष सेना का अपमान कर रहा है। सपा-बसपा पर निशाना साधते हुए कहा कि सेना का अपमान करने वाले ही इस गठबंधन में शामिल हुए है। उन्होंने कहा कि कहा कि एक ओर नरेंद्र मोदी देश को सुरक्षित करना चाहते हैं, तो दूसरी ओर विपक्ष आतंकवादियों के पक्ष में वोट बैंक की राजनीति कर रहा है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 2019 भ्रष्टाचार बनाम विकास का बन गया है। देशवासी ऐसा प्रधानमंत्री चाहते है जो आतंकवाद पर पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे।

सभा को संबोधित करते हुए कहा कि पुलवामा आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए। आतंकियो को लगा कि उनकी जीत हो गयी लेकिन पाकिस्तान ने गलती करी जिसका खमियाजा एयर स्ट्राइक के माध्यम से पाक को भुगतना पड़ा। अमित शाह ने कहा कि दुनिया में अमेरिका और इजराइल दो ही देश ऐसे थे जो अपने जवानों के खून का बदला लिया करते थे। इस सूची में नरेंद्र मोदी ने भारत का नाम भी दर्ज करा दिया है।

विपक्ष पर हमला बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि 10 साल तक केंद्र में सोनिया और मनमोहन की सरकार रही। 20 साल तक उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा की सरकारें चलीं। इन लोगों ने घपले-घोटालों के अलावा कुछ नहीं किया। पिछले पांच साल की भाजपा सरकार में एक भी भ्रष्टाचार का दाग नहीं लगा। साफ सुथरी सरकार देने का काम भारतीय जनता पार्टी ने किया है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*