अभी मिटे नहीं है बलवे के निशान, देखें वीडियो

आगरा। सोमवार का दिन था। SC\ST मामले में माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का विरोध करने के लिए तमाम संगठन ताजनगरी आगरा के जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन कर रहे थे। प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारी अचानक उग्र हो गए और प्रदर्शनकारियों की उग्रता बलवा उपद्रव उत्पात आगजनी पथराव में बदल गई।

आगरा के नाई की मंडी के ढाकरान चौराहे पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों में संघर्ष हुआ। फायरिंग भी पथराव हुआ। ईदगाह बस स्टैंड से लेकर रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाया। सदर थाने की बुंदूकटरा चौकी को आग के हवाले कर दिया गया। रकाबगंज के रावली मंदिर के सामने हिंदुस्तान कॉलेज की बस को आग के हवाले कर दिया गया। पुलिस के सामने बलवाई रुकने का नाम नहीं ले रहे थे।

ताजनगरी आगरा में सोमवार को सड़कों पर अराजकता का माहौल था। जहां देखो वहां पत्थरबाजी हो रही थी। आगजनी तोड़फोड़ बलवा और पुलिस की फायरिंग यानी गोलियों की तड़तड़ाहट से ताजनगरी गूंज रही थी ।सोमवार को जो कुछ हुआ वह किसी से छिपा नहीं था।

मगर मंगलवार को ताजनगरी आगरा में माहौल भले ही शांत रहा हो। यातायात जनसामान्य रहा हो मगर तनाव बरकरार था। गली मोहल्ले और नुक्कड़ों पर खड़े लोग सोमवार को उपद्रव की चर्चा कर रहे थे तो वहीं मंगलवार को 24 घंटे बाद भी उपद्रव के निशान मिटे नही थे। बलवाइयो ने बुंदू कटरा चौकी को सोमवार की शाम को आग के हवाले कर दिया था।

मंगलवार सुबह चौकी के सामने से उठता धुआं अराजकता का माहौल साफ बता रहा था। सड़क पर जली पड़ी मोटरसाइकिल बता रही थी कि प्रदर्शनकारियों से उपद्रवी बने लोगों ने कैसे आतंक मचाया था। नाई की मंडी के धाकरान चौराहे की अगर बात करें तो होटल मोती पैलेस के टूटे पड़े शीशे बलवा की कहानी को साफ बयां कर रहे थे। ऐसा नजारा एक दो बार नहीं था हर 10 कदम की दूरी पर अराजकता की यह निशान सोमवार को बलवे की पूरी कहानी बखूबी बता रहे थे।

बाहर से आए लोग होटल में ठहरे थे। तो बाहर आतंक मचा रहे बलवाइयों ने Innova गाड़ी के शीशे से लेकर पूरी गाड़ी को चकनाचूर कर दिया था। थोड़ा सा आगे बढ़े तो धाकरान चौराहे पर पुलिस बल तैनात था। SP रैंक के ऑफिसर यहां पर सुरक्षा में तैनात हैं। आरएएफ, पीएसी बल सिविल पुलिस को शहर की सुरक्षा के लिए मुस्तैद किया गया।

हालांकि बलवे को 24 घंटे बीत चुके हैं। सब्जी मंडियां खुल चुकी हैं। लोग बाजार जा रहे है। बच्चे स्कूल नहीं गए क्योंकि स्कूल बंद रखे गए। इंटरनेट सेवाएं बंद थी। शराब के ठेके बंद रखे गए। बलवा ग्रस्त इलाकों के पेट्रोल पंप और बैंकों को भी बंद रखने का निर्णय जिला प्रशासन ने लिया। धारा 144 लागू किया गया। 10 मुकदमे दर्ज किए गए। 110 बलवाई गिरफ्तार हुए।

अब पुलिस प्रशासन फोटो और वीडियो के आधार पर प्रदर्शनकारी से बलवाई बने लोगों को चिन्हित कर कार्यवाही करने की बात कह रहा है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*