Home आगरा पार्षदों के भारी हंगामे के चलते ताजमहल का नाम बदलने के प्रस्ताव पर नहीं हुई चर्चा, सदन स्थगित

पार्षदों के भारी हंगामे के चलते ताजमहल का नाम बदलने के प्रस्ताव पर नहीं हुई चर्चा, सदन स्थगित

by admin

आगरा। ताजमहल का नाम बदलकर तेजोमहालय करने का प्रस्ताव आज बुधवार को नगर निगम के विशेष सदन में पेश नहीं हो सका। एक प्रस्ताव को लेकर पार्षदों के बीच हुए भारी हंगामे के बीच महापौर नवीन जैन ने सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया।

दोपहर तीन बजे के बाद शुरू हुए नगर निगम के इस विशेष सदन में ताजमहल के नाम बदलने सम्बन्धी प्रस्ताव पेश होने से पहले ही भारी हंगामा खड़ा हो गया। भाजपा और बसपा के पार्षदों के बीच जुबानी जंग चलने लगी। दरअसल यह हंगामा भगवान बुद्ध के स्तूप निर्माण से सम्बंधित प्रस्ताव को लेकर था। इस प्रस्ताव को सदन में रखने के साथ ही जैसे ही भाजपा पार्षद ने चर्चा शुरू की वैसे ही बसपा पार्षदों ने हंगामा खड़ा कर दिया। उनका कहना था कि प्रस्ताव को सीधे पारित कर दिया जाए।

वहीँ एक कांग्रेसी पार्षद सदन पटल पर सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के कागज लेकर पहुंच गए। उनका कहना था कि ताजमहल का नाम बदलने के प्रस्ताव पर अदालतें पूर्व में याचिकाकर्ता को फटकार लगा चुकी हैं, इसलिए इस मुद्दे पर नगर निगम को विचार नहीं करना चाहिए।

बहुत देर तक पार्षदों के बीच नारेबाजी होती रही। भारी हंगामे में कुछ भी सुनाई देना मुश्किल हो रहा था। सदन में भाजपा विधायक डॉ. जी एस धर्मेश भी मौजूद रहे। मेयर नवीन जैन और नगर आयुक्त निखिल टीकाराम फुंडे लगातार पार्षदों को समझाने का प्रयास करते रहे, लेकिन स्थिति बिगड़ती देख मेयर ने सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया।

सदन के स्थगित होने के बाद बाहर निकल कर आए विधायक डॉक्टर जी एस धर्मेश ने कहा कि ताजमहल के नाम बदलने का प्रस्ताव कार्यकारिणी में पास नहीं हुआ था तो उसे सदन में नहीं लाया जा सकता था। वहीं उन्होंने भाजपा पार्टी के प्रोटोकॉल का भी हवाला दिया। उनका कहना था कि जब हमारे वरिष्ठ नेता हमारे मंत्री इस संबंध में हवाला दे चुके हैं और कोर्ट ने भी अपनी टिप्पणी कर दी है तो फिर ताजमहल का नाम बदलने का प्रस्ताव लाना ही गलत था।

महापौर नवीन जैन ने बताया कि भाजपा के ही एक पार्षद शोभाराम राठौर की ओर से ताजमहल का नाम तेजो महालय किया जाए इसको लेकर प्रस्ताव लगाया गया था। इस प्रस्ताव को रखा जाता इससे पहले ही विपक्षी पार्षदों ने हंगामा कर दिया जिसके चलते इस विषय पर वार्ता नहीं हो पाई है। अगली बार इस प्रस्ताव पर चर्चा की जाएगी।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: