आसाराम दोषी करार, आजीवन कारावास की सजा

बाल यौन शोषण के मामले में दोषी सिद्ध हुए आसाराम बापू को जोधपुर कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। जिसके बाद आसाराम के समर्थकों में भारी मायूसी है। पिछले 4:30 वर्षों से जेल में निरुद्ध थे और लगातार इस मामले में सुनवाई चल रही थी।

लंबी बहस, 44 गवाहों के बयान और सभी कानूनी पेचीदगियों के बाद आखिरकार जोधपुर कोर्ट ने जोधपुर जेल में ही बनी स्पेशल कोर्ट में फैसला सुनाते हुए आसाराम को नाबालिग बच्ची के साथ बलात्कार का आरोपी पाया और इस आरोप को छुपाने के लिए अपराध को छुपाने के लिए किए गए अन्य अपराधों मसलन धमकी, अपहरण, मारपीट जैसे मामलों में भी आसाराम को दोषी पाया। जिसके चलते उन्हें आजीवन कारावास की सजा कोर्ट ने सुना दी।

इस फैसले से देश भर में आसाराम के हजारों लाखों समर्थकों में मायूसी छा गई। हालांकि सुबह से ही समर्थकों को उम्मीद थी कि शायद आसाराम को इस मामले में बरी कर दिया जाए लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हालांकि उम्मीदें समर्थकों में अभी भी बाकी है और वह अब हाईकोर्ट में जा इस मामले में अपील करने की बात कह रहे हैं।

आगरा में भी कुछ यही स्थिति रही। सिकंदरा क्षेत्र में बने आसाराम बापू के आश्रम में पूरे दिन सन्नाटा ही छाया रहा। यहाँ मौजूद सेवादार ने बताया कि आसाराम के दोषी करार होने और आजीवन कारावास की सजा मिलने से भक्तों में कहीं ना कहीं निराशा तो है लेकिन अभी हाईकोर्ट से उनकी उम्मीदें बरकरार है।

पिछले दिनों गुरमीत राम रहीम के मामले में फैसला आने के बाद जिस तरह से देश भर में विभिन्न स्थानों पर हंगामा व आगजनी हुई थी। उसको देखते हुए इस बार पुलिस पूरी तरह से अलर्ट रही। बापू के सभी आश्रमों पर पुलिस में पहरा सख्त कर दिया था। जहां जहां भी पुलिस को उम्मीद थी कि समर्थक हुए एकजुट हो हो सकते हैं वहां पर पुलिस तैनात रही।

आगरा में भी आश्रम पर सुबह से लेकर शाम तक पुलिस तैनात रही। पूर्व में ही समर्थकों को यहाँ ना आने की हिदायत दे दी गई थी जिसके चलते आश्रम पर सन्नाटा ही पसरा रहा और समर्थक यहां नहीं आ सके। हालांकि कुछ दिन पूर्व भी आसाराम के जन्म दिवस के मौके पर आगरा में उनके भक्तों ने बड़ी कीर्तन यात्रा निकाली थी और उनके बरी होने की प्रार्थनाएं भी की थी।

साथ ही यह दिखाने का भी प्रयास किया था कि उनके समर्थकों में कहीं किसी तरह की मायूसी नहीं है और वह पूरी तरह से उनके साथ आज भी खड़े हैं लेकिन उन समर्थकों अनुयायियों भक्तों की प्रार्थनाएं काम नहीं आई और आखिरकार जिस अपराध के लिए उन्हें गिरफ्तार किया गया था। उस अपराध में दोषी पाए गए और कोर्ट ने उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुना दी।

About admin 5898 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*