बाबा साहेब की मूर्ति क्षतिग्रस्त कर फ़िजा बिगाड़ने की कोशिश, अधिकारीयों और नेताओं ने दिया सूझ-बूझ का परिचय

आगरा। सदर थाना क्षेत्र के गांव रोहता में आंबेडकर पार्क में लगी बाबा साहब की मूर्ति तोड़े जाने से दलित समाज के लोगों में आक्रोश फैल गया। बाबा साहब की मूर्ति को खंडित देखकर दलित समाज के लोग आंबेडकर पार्क में जमा हो गए और जमकर नारेबाजी कर रोड पर जाम कर दिया। डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को खंडित करने की सूचना जैसे ही राजनीतिक दलों को हुई तो तमाम पार्टी के नेता, विधायक और पूर्व विधायक घटनास्थल पर पहुंच गए।

दलित समाज के लोगों का आक्रोश और प्रदर्शन की सूचना पर प्रशासनिक अधिकारीयों के साथ क्षेत्रीय पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया जिससे किसी भी तरह की अप्रिय घटना घट जाए। मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि होली त्यौहार की रात्रि को एक विशेष समुदाय के लोगों ने दलित समाज के लोगों से ना केवल अभद्रता की बल्कि जातिसूचक शब्द कहकर उन्हें होलिका दहन में से होली ना ले आने के लिए रोका गया लेकिन एक विशेष समाज के लोग ऐसा नहीं कर पाए। जिससे नाराज उन लोगों ने अगले दिन बाबा साहब की प्रतिमा को खंडित कर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

वहीं मौके पर पहुंचे तमाम पार्टी के नेताओं ने दलित समाज को समझाया-बुझाया और मौके पर बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की नई मूर्ति लगाने का आश्वासन दिया। कुछ ही देर में बाबा साहब की नई मूर्ति भी वहां पर स्थापित की गई। नई मूर्ति पर जैसे ही माल्यार्पण करने की बात आई तो मौके पर मौजूद दलित समाज ने किसी भी विधायक या नेता के हाथों बाबा साहब की मूर्ति पर माला चढ़ाने का विरोध किया जिसे सभी नेताओं ने माना और मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों ने बाबा साहब की मूर्ति पर माल्यार्पण किया।

बहरहाल त्यौहार के दौरान हुई इस घटना में कोई भी बड़ा बवाल हो सकता था लेकिन घटना को तुरंत संज्ञान में लेते हुए न केवल पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों ने तत्परता दिखाई बल्कि राजनीतिक दलों ने भी एक मंच पर साथ आकर दलित समाज का साथ दिया और मौके पर ही समस्या का समाधान कर बड़ी अनहोनी को टाल दिया।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*