Home बड़ी खबर आगरा : राममंदिर निर्माण आंदोलन की नींव रखने वाले अशोक सिंघल के नाम से जाना जाएगा घटिया आजम खां मार्ग

आगरा : राममंदिर निर्माण आंदोलन की नींव रखने वाले अशोक सिंघल के नाम से जाना जाएगा घटिया आजम खां मार्ग

by admin
Agra: Ghati Azam Khan Marg will be known as Ashok Singhal, who laid the foundation of Ram temple construction movement
Spread the love

आगरा। समाज सेवा के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले, हिंदू हृदय सम्राट एवं राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के संघर्ष आंदोलन की अगुवाई करने वाले स्व. अशोक सिंघल के नाम से जाना जाएगा घटिया आजम खां। सोमवार को स्मार्ट सिटी कक्ष में हुए नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक में यह प्रस्ताव लाया गया। सर्वसम्मति से सभी ने इस प्रस्ताव को पास किया जिसमें घटिया आजम खां मार्ग को अब अशोक सिंघल मार्ग के नाम से जाना जाएगा।

सोमवार को स्मार्ट सिटी कक्ष में नगर निगम कार्यकारिणी की 16वें अधिवेशन की बैठक हुई जिसकी अध्यक्षता महापौर नवीन जैन ने की। इस बैठक में कार्यकारिणी के उपसभापति एवं पार्षद जगदीश पचौरी ने प्रस्ताव लगाया कि ’27 सितंबर को सिटी स्टेशन रोड, आगरा पर जन्मे अशोक सिंघल जी ने किशोरावस्था में ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ने के साथ-साथ अपनी पढ़ाई जारी रखी। 1950 में बीएचयू इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन समाज के लिए समर्पित कर दिया। इंजीनियर बनने के बजाय अशोक सिंघल ने समाज सेवा का मार्ग चुना और आगे चलकर आर एस एस के पूर्णकालिक प्रचारक बन गए। 1981 में वह विश्व हिंदू परिषद में भी शामिल हुए। देश में हिंदुत्व की भावना को मजबूत बनाने के लिए 1984 में धर्म संसद के आयोजन में अशोक सिंघल ने मुख्य भूमिका निभाई थी और इसी धर्म संसद में साधु संतों की बैठक के बाद श्री राम जन्मभूमि आंदोलन की नींव पड़ी थी।

असल में अशोक सिंघल के प्रयास के चलते ही राम मंदिर आंदोलन का विस्तार पूरे देश में हुआ था। उन्होंने कहा था “यह मात्र एक मंदिर का नहीं हिंदू राष्ट्र का शिलान्यास है।” अशोक सिंघल ने राम मंदिर आंदोलन को हिंदुओं के सम्मान से जोड़ने में अहम भूमिका निभाई और देश भर में आंदोलन के लिए लोगों को एकजुट किया। त्याग एवं बलिदान के प्रणेता रहे स्वर्गीय अशोक सिंघल जी की याद में उनके जन्म स्थान के पास घटिया आजम खां के नाम को बदलकर अशोक सिंघल मार्ग रखा जाए। यह प्रस्ताव जैसे ही कार्यकारिणी में रखा गया, वैसे ही सभी लोगों ने इस पर सहमति जताई और प्रस्ताव को पास कर दिया।

Agra: Ghati Azam Khan Marg will be known as Ashok Singhal, who laid the foundation of Ram temple construction movement

कार्यकारिणी के उपसभापति जगदीश पचौरी द्वारा अन्य प्रस्ताव जो रखे गए उसमें शमशाबाद रोड पर कहरई मोड़ चौराहा का नाम शहीद कौशल कुमार रावत रखने का प्रस्ताव रखा गया। यह प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास किया गया। इसके अलावा उपसभापति ने बकाया ग्रह पर सर चार्ज ब्याज को मुक्त किए जाने से संबंधित सदन के 22 में अधिवेशन में प्रस्तुत किए गए एकमुश्त समाधान योजना यानी ओटीएस का प्रस्ताव नगर निगम द्वारा तैयार कर शासन की अनुमति हेतु अनुमोदन करने की संस्तुति की गई। जिससे लखनऊ नगर निगम की तरह आगरा शहर की जनता को भी एकमुश्त समाधान योजना का लाभ मिल सके। इस प्रस्ताव को भी सर्वसम्मति से पास किया गया।

पार्षद मोहन शर्मा ने शास्त्रीपुरम चौराहा का नाम भगवान चित्रगुप्त के नाम से रखे जाने का प्रस्ताव रखा। किदवई पार्क से पुराने पोस्ट ऑफिस राजा मंडी मार्ग का नाम 1857 की लड़ाई के नायक व स्वतंत्रता सेनानी तात्यां टोपे के सम्मान में इस मार्ग का नाम तात्यां टोपे मार्ग रखे जाने का प्रस्ताव रखा, सर्वसम्मति से इन दोनों प्रस्तावों को पास किया गया।

पार्षद संजय राय ने दीवानी चौराहा के समक्ष कांजी हाउस का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय मवेशी ग्रह रखने का प्रस्ताव दिया, इसे भी सर्वसम्मति से पास किया गया।

पार्षद धर्मवीर ने डॉक्टर भीमराव आंबेडकर पार्क जगदीशपुरा के गढ़ी भदोरिया रोड के तिराहे पर एक भव्य बौद्ध स्तूप बनाने का प्रस्ताव रखा। दूसरा, जीवनी मंडी से बेलनगंज पंजाब नेशनल बैंक को जाने वाले मार्ग का नाम समाजसेवी एवं जाटव महा पंचायत के सरपंच रहे स्वर्गीय श्री देवी प्रसाद आजाद जी के नाम से रखे जाने एवं उनके नाम से एक विशाल गेट बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया। दोनों प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास किए गए।

पार्षद अमित ग्वाला और मोहन शर्मा ने संयुक्त रूप से सुल्तान गंज चौराहा का नाम स्वर्गीय श्री सत्य प्रकाश विकल्प चौक के नाम रखे जाने का प्रस्ताव रखा, जिसे पास किया गया।

पार्षद नेहा गुप्ता ने मोतीलाल नेहरू रोड नसिया जी में स्थापित भगवान नेमिनाथ जी के मंदिर के पीछे रिक्त पड़ी भूमि पर आगरा दिगंबर जैन परिषद को पंछी चिकित्सालय खोले जाने की अनुमति प्रदान किए जाने से संबंधित प्रस्ताव रखा, जिसे सर्वसम्मति से सहमति दी गई।

पार्षद कर्मवीर सिंह ने मधु नगर चौराहा का नाम महाराजा सूरजमल चौक रखे जाने का प्रस्ताव रखा जिसे सर्वसम्मति से पास किया गया।

इस बैठक में नगर आयुक्त निखिल टीकाराम फुंडे, दोनों अपर नगर आयुक्त विनोद कुमार गुप्ता, केबी सिंह, मुख्य अभियंता निर्माण बी एल गुप्ता, मुख्य अभियंता (विद्युत/यांत्रिक) संजय कटियार, जलकल जीएम आर एस यादव, नगर स्वास्थ्य अधिकारी अतुल भारती, पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ सतवीर सिंह डागुर, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी रोहन सिंह, पार्षद धर्मवीर, पार्षद संजय राय, पार्षद कर्मवीर, पार्षद मोहन शर्मा, पार्षद अमित अग्रवाल ग्वाला, पार्षद गुलाब सिंह, पार्षद नेहा गर्ग गुप्ता, पार्षद जरीन बेगम आदि मौजूद रहे।

Related Articles