Home प्रदेश मालगाड़ी की 40 बोगियां पटरी से उतर एक-दूसरे पर चढ़ीं, 4 बच्चे दबे एक की मौत

मालगाड़ी की 40 बोगियां पटरी से उतर एक-दूसरे पर चढ़ीं, 4 बच्चे दबे एक की मौत

by admin
40 bogies of the goods train derailed, climbed on each other, 4 children were buried, one died
Spread the love

Agra. डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डीएफसी ट्रैक) पर सोमवार शाम को एक बड़ा हादसा हो गया। मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। बताया जाता है कि मालगाड़ी की लगभग 40 बोगियां पटरी से उतर गईं। हादसा इतना भीषण था कि ट्रेन की कुछ बोगियां एक-दूसरे पर चढ़ गईं तो कुछ रेल ट्रैक से नीचे पलट गईं। ट्रैक के किनारे पशु चरा रहे चार बच्चे बोगियों के नीचे दब गए। इनमें एक की मौत हो गई है। हादसे की जानकारी मिलते ही फिरोजाबाद के टूंडला जंक्शन से एक्सीडेंट रिलीफ ट्रेन (एआरटी) मौके पर भेजी गई है। मौके पर बचाव कार्य किया जा रहा है।

शाम पांच बजे हुआ हादसा

ट्रेन हादसा इटावा जिले के न्यू भदान और इकदिल रेलवे स्टेशन के बीच फूलपुर गांव के समीप हुआ है। जानकारी के मुताबिक डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर पर सोमवार को भाऊपुर जा रही बीएससीएस मालगाड़ी पटरी से उतर गई। शाम तकरीबन पांच बजे फूलपुर गांव के समीप मालगाड़ी की कई बोगियां पटरी से उतर गईं। इन बोगियों में लाइम स्टोन भरा हुआ था। इसके बावजूद कई बोगियां एक-दूसरे के ऊपर चढ़ गईं।

बोगियों के नीचे दबे चार बच्चे, एक की मौत

मालगाड़ी की कुछ बोगियां ट्रैक से नीचे पलट गईं हैं। इनके नीचे चार बच्चे दब गए। इनमें एक की मौत हो गई है, जबकि दो बच्चों को निकालकर घायल अवस्था में सैफई मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। एक बच्चे की तलाश जारी है। हादसे के बाद घटनास्थल पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई हैं। रेलवे की टीम भी मौके पर पहुंच गई है। बचाव कार्य किया रहा है। बताया जा रहा है कि मालगाड़ी की 58 बोगियों में से 44 बोगियां पटरी से उतर गईं है। मालगाड़ी 88 किमी/प्रति घंटे की रफ्तार से जा रही थी। मालगाड़ी दिल्ली से कानपुर आ रही थी।

40 bogies of the goods train derailed, climbed on each other, 4 children were buried, one died

पिछले महीने भी हुआ था हादसा

पिछले महीने भी इटावा में भाऊपुर से खुर्जा सेक्शन के फ्रेट कॉरिडोर रेल मार्ग पर जसवंतनगर व बलरई के बीच मालगाड़ी के 17 डिब्बे पलट गये थे। संयोग से वह हादसा भी सोमवार को ही हुआ था। 23 अगस्त को हुए हादसे के बाद मालगाड़ी दो हिस्सों में बंट गई थी और आगे का हिस्सा राजपुर गांव के पास फाटक संख्या 37 पर जाकर रुका। यह हादसा डाउन लाइन पर हुआ था। हादसे के बाद ओएचई लाइन के तारों को भी नुकसान पहुंचा था। 08 डिब्बों को भारी नुकसान पहुंचा था और 09 पलटे थे। करीब एक दर्जन खंभे भी क्षतिग्रस्त हो गए थे।

Related Articles