पानी की टंकी पर चढ़े कॉलोनीवासी, जिला प्रशासन के छूटे पसीने

फ़िरोज़ाबाद। सुहागनगरी में विकास कार्यो को लेकर श्रीराम कालोनी के लोग शोले फ़िल्म के वीरू बन गये। क्षेत्र में विकास कार्यों को कराने और नारकीय जिंदगी से छुटकारा पाने के लिए क्षेत्र में स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गए। एक साथ काफी लोगों के पानी की टंकी पर चढ़ने की सूचना पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया। मौके पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने लोगों को समझा बुझाकर नीचे उतारने का प्रयास किया लेकिन लोग मानने को तैयार नही हुए और विकास कार्य शुरू होने पर ही नीचे उतरने की बात कही।

बताया जाता है कि श्रीराम कॉलोनी में काफी समय से जलभराव व कीचड़ हो रखा है। लोगों के निकलने के दौरान हादसे हो रहे है। इस समस्या को लेकर क्षेत्रीय लोगों ने धरना प्रदर्शन और भूख हड़ताल तक की लेकिन कोई नतीजा नही निकला। इस क्षेत्र के लिए अब तक न तो नगर निगम में शामिल किया है और न ही विकास का कोई खाका खींचा गया जिससे क्षेत्रीय लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया। इसलिए खराब मार्ग, गलियों में कीचड़, गंदगी की समस्याओं के निदान और क्षेत्र के विकास को लेकर आक्रोशित क्षेत्रीय वाशिंदे पानी की टंकी पर चढ़ गए।

आक्रोशित लोगों का कहना था इन समस्याओं के लिए जनप्रतिनिधियों के काफी चक्कर काटे। नगर निगम अधिकारियों को भी इससे अवगत कराया लेकिन कोई सुनवाई नही हुई सिर्फ आश्वासन ही मिलता रहा।

क्षेत्र में विकास कार्य कराने के लिए भूख हड़ताल की तो भाजपा विधायक मनीष असीजा ने भी उनकी भूख हड़ताल को यह कहकर तुड़वाई थी कि वे क्षेत्र में विकास कराएंगे लेकिन कोई विकास नहीं हुआ है।

इस घटना की सूचना पर श्रीराम कालोनी में पहुँचे नगर मजिस्ट्रेट कुंवर पंकज ने लोगों को समझाया लेकिन खबर लिखे जाने तक कोई नतीजा नही निकला।

About admin 1750 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*