इन राज्यों में कोविशील्ड वैक्सीन की खेप पहुंचना शुरू, 16 जनवरी से होगा वैक्सीनेशन

The consignment of covishield vaccine starts arriving in these states, vaccination will be from January 16

16 जनवरी से वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इसी क्रम में प्रस्तावित वैक्सीनेशन के लिए कोविशील्ड वैक्सीन की पहली खेप पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से रवाना हो चुकी है। देशभर में इस महामारी के खिलाफ लंबे समय से चल रही जंग के खत्म होने की अब उम्मीद नजर आने लगी है। फिलहाल वैक्सीन से संबंधित जानकारी पुणे की डीसीपी नमृता पाटिल ने साझा की है।

नमृता पाटिल द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘वैक्सीन की पहली खेप यहां सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से भेजी गई है। हमने सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए हैं।’

बता दें कोविशील्ड वैक्सीन ले जाने वाले तीन ट्रक सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से मंगलवार सुबह पुणे के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंचे। जहां से वैक्सीन देश के अलग-अलग हिस्सों में भेजी जा रही है। देशभर में ड्राई रन के माध्यम से वैक्सीनेशन की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं ताकि वास्तविक वैक्सीनेशन के दौरान किसी प्रकार की कोई कमी ना रह जाए। फिलहाल 16 जनवरी से वैक्सीनेशन का काम शुरू किया जाएगा। सरकार ने सोमवार को एसआईआई से ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ की 1.1 करोड़ खुराक खरीदने का ऑर्डर दिया है।

The consignment of covishield vaccine starts arriving in these states, vaccination will be from January 16

16 जनवरी से प्रस्तावित टीकाकरण अभियान से पहले सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक से कोविड-19 टीके की छह करोड़ से अधिक खुराक खरीदने का ऑर्डर दिया। इस ऑर्डर की कुल कीमत करीब 1300 करोड़ रुपये आंकी जा रही है। मिली जानकारी के मुताबिक सरकार ने भारत बायोटेक को 55 लाख खुराक का ऑर्डर दिया है, और इसकी तकरीबन लागत 162 करोड़ रुपए बताई जा रही है।

The consignment of covishield vaccine starts arriving in these states, vaccination will be from January 16

पीएम मोदी की सोमवार को प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से हुई वार्ता के दौरान कहा गया कि वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में 50 साल से ऊपर के सभी लोगों को और 50 साल से नीचे उन बीमार लोगों को जिन्हें संक्रमण का ज्यादा खतरा है उन्हें टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण के दौरान पहचान और मॉनिटर को अहम माना जा रहा है।

दरअसल आपको बता दें कि सरकार ने दो वैक्सीन को अब तक हरी झंडी दिखाई है ये वैक्सीन हैं भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजैनेका की कोविशील्ड। फिलहाल सरकार कोविशील्ड की डोज़ देश के कोने कोने में पहुंचाने के लिए कवायद शुरू कर चुकी है। मंगलवार को पुणे हवाई अड्डे से वैक्सीन की पहली खेप दिल्ली पहुंचाई गई और इसके बाद अन्य राज्यों तक भी यह वैक्सीन पहुंचाई जा रही है।

इसके अलावा सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी मंगलवार से सीधे कोविशील्ड की पहली खेप की डिलीवरी दूसरे राज्यों के 13 शहरों में शुरू कर दी है।

दिल्ली

कोविशील्ड’ टीके की पहली खेप पुणे हवाई अड्डे से दिल्ली पहुंची। बता दें दिल्ली में कुल 1000 वैक्सीनेशन बूथ और 609 कोल्ड चैन प्वाइंट तैयार किए हुए हैं।

बिहार

बिहार में सिरम इंस्टीट्यूट ने सीधे वैक्सीन पहुंचाई है जो पटना पहुंचेगी। बता दें पहली फ्लाइट से साढ़े 5 लाख डोज़ पटना पहुंचाई गईं हैं।

कोलकाता

कोलकाता की अगर बात की जाए तो यहां करीब 7 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज पहुंचाई गईं हैं। वहीं राज्यभर में 941 कोविड चेन प्वाइंट बनाए गए हैं।

हैदराबाद

तेलंगाना में 139 केंद्रों पर पहले फेज़ के तहत टीकाकरण किया जाएगा। यहां हर जिले में दो से तीन केंद्र बनाए जाएंगे। मिली जानकारी के अनुसार पहले दिन कुल 13,900 टीके लगाए जाएंगे। फिलहाल अब तक करीब 2 लाख 90 हजार स्वास्थ्य कर्मियों ने अपने नाम पंजीकृत करा दिए हैं।

हाल फिलहाल सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को कोरोना वैक्सीन के 6 करोड़ से ज्यादा डोज़ के ऑर्डर दिए हैं। अब इन राज्यों के अलावा यह वैक्सीन की डोज हैदराबाद, चेन्नई, बेंगलुरु, चंडीगढ़, पटना, भुवनेश्वर, लखनऊ, विजयवाड़ा, गुवाहाटी और करनाल आदि में भी पहुंचाई जा रही है। सरकार का उद्देश्य देश के कोने कोने तक कोरोना वैक्सीन पहुंचाने का है।

About admin 5449 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।