Home agra एम्स की तर्ज पर आगरा में होगा कैंसर मरीजों का इलाज, लेडी लॉयल में ब्लॉक बनाने को भूमि पूजन

एम्स की तर्ज पर आगरा में होगा कैंसर मरीजों का इलाज, लेडी लॉयल में ब्लॉक बनाने को भूमि पूजन

by admin
Cancer patients will be treated in Agra on the lines of AIIMS

Agra. आगरा में मिलेगी एम्स की तर्ज पर कैंसर मरीजों को सुविधा। लेडी लॉयल में बनाया जा रहा ब्लॉक। भूमि पूजन के साथ हुई शुरुआत। जानिए क्या होगा खास।

आगरा शहर वासियों को जल्द ही एम्स की तर्ज पर ही कैंसर की सुविधा उपलब्ध होने जा रही है। इसको लेकर कवायद शुरू हो गई है और लेडी लॉयल के एक्सटेंशन प्लान के तहत प्रथम भवन लायनेक ब्लाक का भूमि पूजन हुआ। यह लायनेक ब्लॉक पीएमएसएसवाय फ़ेज़ 4 के अंतर्गत बन रहा है।

यह ब्लॉक कैंसर के मरीज़ों के लिये अत्याधुनिक मशीनों से सुसज्जित होगा, जहाँ एम्स दिल्ली की तर्ज पर एसएन मेडिकल कालेज में कैंसर मरीजों को अत्याधुनिक रेडियोथेरेपी की सुविधा मिलेगी। इसमें कोवाल्ट की जगह मेगावाट एक्सरे से रेडियोथैरेपी की जाएगी, कैंसर मरीजों को रेडियोथैरेपी के साइड इफेक्ट बहुत कम होंगे।

13 करोड़ की लागत से बनेगा यह लायनेक ब्लॉक:-

जानकरी के मुताबिक लेडी लायल जिला महिला चिकित्सालय में 13 करोड़ की लागत से लायनेक ब्लाक बनने जा रहा है। इसके लिए मंगलवार को भूमि पूजन किया गया। छह महीने में मरीजों को यह सुविधा मिलने लगेगी। अभीतक एसएन मेडिकल कालेज में टेलीकावाल्ट मशीन से रेडियोथैरेपी की जाती है, यह पुरानी मशीन है।

अब एम्स, दिल्ली सहित बड़े चिकित्सकीय संस्थानों में लीनियर एक्सेलरेटर और सीटी सिम्युलेटर से रेडियोथैरेपी की जाती है। इससे शरीर के किसी भी अंग के छोटे से छोटे कैंसर की साइड इफेक्ट के बिना रेडियोथैरेपी की जा सकती है।

तीन महीने में पूरा होगा​ निर्माण
प्राचार्य डा. प्रशांत गुप्ता ने बताया कि 13 करोड़ से 750 वर्ग मीटर में लायनेक ब्लाक बनाया जाएगा, निर्माण कार्य तीन महीने में पूरा हो जाएगा। एक मंजिला बिल्डिंग में मशीन के लिए बंकर बनाए जाएंगे। हर रोज 40 से 45 मरीजों की रेडियोथैरेपी हो सकेगी।

ये मिलेगी सुविधा

इमेज गाइडेड रेडियोथैरेपी स्टेरियोस्टेटिक रेडियोथैरेपी ट्रिपल एफ इंटीग्रेटेड कैंपस के तहत पहला प्रोजेक्ट एसएन मेडिकल कालेज में लेडी लायल जिला महिला चिकित्सालय को शामिल कर लिया है, इन दोनों परिसर को मिलाकर 45 एकड़ में इंटीग्रेटेड कैंपस बनाया जाना है।

इंटीग्रेटेड कैंपस के तहत लाइयनेक ब्लाक पहला प्रोजेक्ट है। एम्स की तरह यहां अत्याधुनिक लीनियर एक्सेलरेटर स्थापित किया जाएगा। इसके लिए एटोमिक रेग्युलेटरी बोर्ड की भी अनुमति मिल गई

इस कार्यक्रम में रेडियेशन आँकोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉक्टर ए के आर्या, विभाग के रेडियेशन फिजीसिसट एवं आर एस ओ प्रोफ़ेसर अनुज त्यागी, हाईट्स के चीफ़ इंजीनियर साईट पंकज कपिल, जे ई तरुन कुमार , जे ई कुमार केतन व अन्य अधिकारी उपस्थिति रहे।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: