Home agra आगरा के जनप्रतिनिधियों ने नेशनल चैंबर को बताया, ऐसे कर सकते हैं आगरा का विकास

आगरा के जनप्रतिनिधियों ने नेशनल चैंबर को बताया, ऐसे कर सकते हैं आगरा का विकास

by admin
Agra's public representatives told the National Chamber, this is how Agra can develop

आगरा। आगरा के विकास के लिए जनप्रतिनिधियों की क्या रूपरेखा है, क्या उनकी प्राथमिकता है और आगरा का विकास कैसे होगा, इस पर कैबिनेट मंत्री, विधायक संग नेशनल चैंबर ने किया मंथन। ये निकले मंथन से मोती।

आगरा के विकास के लिए जनप्रतिनिधियों की क्या रूपरेखा है क्या उनकी प्राथमिकता है और आगरा का विकास कैसे होगा इसको लेकर नेशनल चैम्बर ऑफ इंडस्ट्रीज एन्ड कॉमर्स द्वारा एक मंथन कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। वाटर वर्क्स स्थित अग्रवन में आयोजित हुए इस मंथन कार्यक्रम में प्रदेश के उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री योगेंद्र उपाध्याय, विधायक डॉ. धर्मपाल सिंह, डॉ.जी.एस. धर्मेश, विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल व विधान परिषद सदस्य विजय शिवहरे ने भाग लिया। मंथन कार्यक्रम के दौरान सभी जनप्रतिनिधियों ने अपने अपने स्तर से आगरा के विकास के लिए उनकी क्या योजनाएं हैं क्या प्राथमिकताएं हैं और किन मुद्दों की समस्याओं को दूर करना है उन पर अपने विचार रखें।

रिलिजियस, कल्चरल, हिस्टोरिकल एंड नेचुरल टूरिज्म ऑफ इंडिया” योजना से बढ़ेगा पर्यटन:-

कैबिनेट मंत्री योगेंद्र उपाध्याय ने कहा कि जिले में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए उनके द्वारा “रिलिजियस, कल्चरल, हिस्टोरिकल एंड नेचुरल टूरिज्म ऑफ इंडिया” नामक योजना बनाई गई है। इस योजना से पर्यटक आगरा में कम से कम पांच दिन रुकेंगे। उन्होंने कहा कि फिरोजाबाद से आगरा और मथुरा तक पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। इन संभावनाओं को अमलीजामा पहनाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से वार्ता हुई है और उन्होंने शीघ्र ही पर्यटन विश्वविद्यालय खोलने जैसी योजनाओं को धरातल पर लाने का आश्वासन दिया है जल्द ही एक पर्यटन विश्वविद्यालय खुलेगा।

यमुना की होगी डीसिल्टिंग:-
कैबिनेट मंत्री योगेंद्र उपाध्यय ने कहा कि उनके उच्च शिक्षा मंत्रालय के साइंस एंड टेक्नोलॉजी विभाग को यमुना नदी में ताजमहल से पांच किलोमीटर आगे और कैलाश से पांच मीटर आगे तक सिल्ट की स्थिति पता लगाने की जिम्मेदारी दी गई है। रिपोर्ट मिलने के बाद यमुना नदी में डीसिल्टिंग की व्यवस्था की जाएगी। जिससे यमुना में अधिक से अधिक पानी का ठहराव हो सके।

आगरा से मथुरा तक तीन बैराज व लेदर पार्क की योजना को धरातल पर लाना:-

मंथन कार्यक्रम के दौरान विधान परिषद सदस्य विजय शिवहरे ने भी जनप्रतिनिधि होने के नाते आगरा फिरोजाबाद से संबंधित अपनी विकास की नीतियों को चेंबर के सभी सदस्यों के सामने रखा उन्होंने बताया कि विगत दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात में जानकारी मिली कि मथुरा से आगरा तक यमुना नदी पर तीन बैराज बनाए जाएंगे। आगरा में रबर चेक डैम अवश्य बनेगा। उन्होंने कहा कि लंबित चल रहे लैदर पार्क में शीघ्र ही कुछ नया होने को है। इस बारे में प्रस्ताव गया हुआ है। शिवहरे ने आगरा को इम्मिटेशन ज्वैलरी की दुनिया की सबसे बड़ी मंडी बताते हुए कहा कि चैम्बर के मांग पत्र में इसे भी जोड़ा जाना चाहिए।

एनजीटी से संबंधित समस्याओं के लिए लड़ाई लड़ना शुरू:-

विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल ने कहा कि जिले के विकास में जो एनजीटी एवं सुप्रीम कोर्ट स्तर पर कानूनी अड़चनें आ रही हैं, उन्हें दूर करने के लिए मजबूत पहल की आवश्यकता है।

एयरपोर्ट से संबंधित समस्या का जल्द होगा समाधान:-

विधायक डॉ.जी.एस. धर्मेश ने कहा कि चैम्बर 11 लोगों की कमेटी बनाए। वे मुख्यमंत्री से समय दिलवाएंगे और बिंदुवार चर्चा करेंगे। एयरपोर्ट के संबंध में उन्होंने सुझाव दिया कि पांच लोग मिलकर मेरे साथ एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों से मिलने चलें, उनसे वार्ता करेंगे। विधायक डॉ. धर्मपाल सिंह ने चैम्बर के मांग पत्र पर सुझाव दिया कि पहले दो बिंदुओं पर पहल की जाए। उसके लिए मुख्यमंत्री से समय लेकर मिला जाएगा। उन्होंने सुझाव दिया कि मंथन कार्यक्रम महीने में एक बार होना चाहिए जिससे संवाद में निरंतरता बनी रहे।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: