देखिए ताजमहल पर अचानक क्या हुआ, जाने ये खबर

आगरा। मोहब्बत की निशानी और विश्वदायीं स्मारक ताजमहल पर शनिवार सुबह अचानक खलबली मच गई। पुलिस प्रशासन से लेकर CISF के पसीने छूट गए। दरअसल ताजमहल के पास प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन कैमरा उड़ने का था।

शनिवार की सुबह ताजमहल के प्रतिबंधित क्षेत्र में तीन बार ड्रोन कैमरा उड़ाया गया। ये ड्रोन कैमरा किसने उड़ाया इसकी जानकारी अभी तक पुलिस प्रशासन और CISF विभाग के लोगों को नहीं हो पाई है तो उधर ASI को भी चिंता है कि आखिरकार बार-बार प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन कैमरा कैसे उड़ रहा है। पुलिस प्रशासन और CISF के साथ एएसआई के सुरक्षा के दावे लगातार विफल हो रहे हैं ।

ताजमहल के प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन कैमरा उड़ने से पुलिस प्रशासन की सुरक्षा के दावों पर भी सवालिया निशान खड़ा हो जाता है। इंस्पेक्टर ताजगंज के मुताबिक यह ड्रोन कैमरा अमर विलास होटल की ओर से उड़ा था जो लगातार तीन बार उड़ा और ताज महल के मुख्य गुंबद के आसपास से फोटोग्राफी करने की भी संभावना ड्रोन कैमरे के द्वारा जताई गई है।

बड़ा सवाल यह है कि आगामी 18 फरवरी को कनाडा के प्रधानमंत्री का आगरा और ताजमहल निहारने का दौरा प्रस्तावित है जिसको लेकर कनाडा प्रधानमंत्री की सुरक्षा टीम और तमाम सुरक्षा एजेंसियां ताजमहल की सुरक्षा व्यवस्था का शनिवार सुबह जायजा ले रही थी। तभी यह ड्रोन कैमरा सुरक्षा एजेंसियों के सामने तीन बार उड़ा। सी आई एस एफ, सिविल पुलिस ASI में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में ड्रोन कैमरे को तलाशने के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया मगर सर्च ऑपरेशन में खबर लिखे जाने तक डोन कैमरा बरामद नहीं हो पाया था।

वहीं इंस्पेक्टर ताजगंज के मुताबिक ड्रोन कैमरा तलाशी के लिए शुरू हुए सर्च अभियान में पुलिस को रूफ पर तैनात किया गया है और लोगों से जानकारी जुटाई जा रही है।

उधर पुलिस की सुरक्षा एजेंसियां और खुफिया विभाग भी सतर्क हो गया है। इससे पहले भी कई बार ताजमहल के प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन कैमरा से फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराई गई मगर केवल खानापूर्ति करके पुलिस ने मामले को रफा-दफा कर दिया।

अब एक बार फिर शनिवार सुबह उड़े ड्रोन कैमरे ने सिविल पुलिस CISF, ASI के सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*