क्या बिना अनुमति ताजमहल में पढ़ी जा रही है नमाज़, जानिए इस ख़बर से

आगरा:- ताजमहल पर नमाज को लेकर लगातार विवाद गहराता जा रहा है। पुरातत्व विभाग रोज की नमाज पर प्रतिबंध लगा रहा है और मुस्लिम समाज जबरन नमाज पढ़ने में लगा हुआ है जिसका हाल ही में वीडियो भी वायरल हुआ है। ताजमहल में नमाज पढ़ी जाने को लेकर एक आरटीआई में खुलासा हुआ है कि अभी तक ताजमहल पर जो नमाज पढ़ी गयी है उनके लिए कोई अनुमति नही ली गयी है। नमाज पढ़ी जाने को लेकर इतिहासकार और आरटीआई एक्टिविस्ट राज किसोर राजे ने आरटीआई डाली थी जिसमे इसका खुलासा हुआ है। आरटीआई एक्टिविस्ट और इतिहासकार का कहना है कि ताजमहल पर बिना अनुमति नमाज पढ़ना गैरकानूनी है और इस पर रोक लगनी चाहिए।

ताजनगरी के प्रमुख इतिहासकार राज किशोर राजे ने दिल्ली पुरातत्व निदेशक से ताजमहल में नमाज के सम्बंध में तीन बिंदुओं पर सूचना मांगी थी। पहली की शाहजहां के दरबारी लेखक अब्दुल हमीद लाहौरी की शाजहाँ नामा किताब या किसी अन्य किताब में ताजमहल पर स्थानीय लोगो की नमाज अदा करने की अनुमति का उल्लेख या किसीशाही फरमान की जानकारी विभाग को है?दूसरा 1803 से1947 तक ब्रिटिष शाशन मे नमाज के लिए कोई आदेश जारी हुआ है और तीसरा की 1947 से स्वतंत्र भारत के अंदर क्या ताजमहल के अंदर नमाज पढ़ने की कोई आदेश है और है तो अवगत कराएं। इस संबंध में पुरातत्व निदेशक के कार्यालय से जबाब मिला कि नमाज से संबंधित कोई आदेश उनके पास नही है।

आरटीआई से मिली जानकारी के बाद अब राष्ट्रीय बजरंग दल नमाज का विरोध करने के प्रति मुखर हो गया है। रास्ट्रीय बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का कहना है कि जब अनुमति नही है तो वहां नमाज नही होनी चाहिए और अगर नमाज हो रही है तो उन्हें भी ताजमहल पर आरती और जलाभिषेक की अनुमति दी जाए। कल राष्ट्रीय बजरंग दल पुरातत्व विभाग का घेराव करेगा और अपनी मांग रखेगा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*