यूपी डीजीपी ने की समीक्षा बैठक, ताबड़तोड़ एनकाउंटर के मुद्दे पर भी बोले

आगरा। उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया और डीजीपी ओमप्रकाश सिंह ने ताजनगरी आगरा में 8 जिलों के पुलिस कप्तानों के साथ कानून व्यवस्था पर समीक्षा बैठक की।  आगरा पुलिस लाइन के मनोरंजन कक्ष में आयोजित कानून व्यवस्था समीक्षा बैठक में 8 जिलों के पुलिस कप्तान के अलावा एडीजी, आईजी और एडिशनल एसपी भी मौजूद थे। इस मौके पर डीजीपी ने बताया कि यह पहला मौका है जब डीजीपी बनने के बाद आगरा जोन में मैं अपने पुलिस के आला अफसरों से बातचीत करने आया हूं।

डीजीपी ओमप्रकाश ने बताया कि प्रदेश की पुलिस ने होली  को सफलतापूर्वक संपन्न कराया है। होली पर पिछली साल 59 घटनाएं हुई और उससे पहले 97 घटनाएं हुई जबकि इस बार केवल 14 घटनाएं हुई। 14 घटनाओं पर पुलिस बेहद सतर्क थी। पीस कमेटी की बैठकों के जरिए पहले से ही शांति व्यवस्था कायम करने की अपील प्रदेश की पुलिस ने की थी।

प्रेस वार्ता में डीजीपी उत्तर प्रदेश, प्रदेश की पुलिस की तारीफ करते नजर आए। कानून व्यवस्था में लगातार सुधार हो रहा है। 10 महीनों में प्रदेश की पुलिस ने अपराधियों पर प्रहार और कुठाराघात किया है।

आगरा जोन में भी स्थिति बेहतर हुई है। 1321 मामलों में पुलिस और अपराधियों का आमना सामना हुआ।  3089 अपराधी अरेस्ट किए गए। जिनमें 50% नगद पुरस्कार अपराधी अरेस्ट हुए।  पुलिस से आमने सामने के दौरान गोली चलाने वाले अपराधियों से आत्मरक्षार्थ पुलिस ने 43 अपराधी मार गिराए ।

43 अपराधियों में एक अपराधी एक लाख का इनामी और बाकी 50-50 हजार के नाम थे। 5409 अपराधी जमानत निरस्त करा कर न्यायालय में समर्पण कर गए। यह प्रदेश की पुलिस के लिए बड़ी सफलता है।

महिलाओं की सुरक्षा की चिंता करते हुए प्रदेश की पुलिस ने 3400 से ज्यादा मामलों में वैधानिक कार्यवाही की। यूपी हंड्रेड, एसटीएफ, एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड और बेसिक पुलिसिंग में लगातार सुधार हो रहा है। गिरोह बंध अधिनियम के तहत कार्यवाही करते हुए पुलिस ने 13624 मामलों में से 12654 मामलों में कार्यवाही की। 199 प्रकरणों में 94 करोड़ की संपत्ति को जप्त किया गया। 7000 से अधिक वाहनों की बरामदगी हुई।

डीजीपी उत्तर प्रदेश ने अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए हैं कि अच्छा काम करने वाले कर्मचारियों को सम्मानित किया जाए। उनकी तस्वीर लगाई जाए और कोई भी अच्छी चीज जिससे जनता में विश्वास पैदा हो समाज में सुधार हो इसके लिए पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश में हो रहे एनकॉउंटर पर कहा कि यह ऑपरेशन मुठभेड़ नहीं है बल्कि अपराधियों पर प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अलावा अंत में डीजीपी उत्तर प्रदेश ओमप्रकाश ने सिंह ने बताया कि प्रदेश की पुलिस पर हथियारों की कोई कमी नहीं है और अगर कमी होगी भी तो उसमें सुधार होगा हम मनोबल को रखकर हम मनोबल को ऊंचा रख कर कदम रख रहे हैं।

शहर वासियों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं, मून ब्रेकिंग

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*