Home agra काल सर्प दोष से मुक्ति को आगरा के शिव मंदिरों में उमड़ा सैलाब

काल सर्प दोष से मुक्ति को आगरा के शिव मंदिरों में उमड़ा सैलाब

by admin
There was an influx in the Shiva temples of Agra to get rid of Kaal Sarp Dosh

Agra. काल सर्प दोष से मुक्ति को आगरा के शिव मंदिरों में उमड़ा सैलाब। कई मंदिरों में की गई पूजा। मंगला गौरी व्रत ने इस दिन को बेहद अहम बनाया।।

मंगलवार को श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि है जिसे नाग पंचमी है। आज इस पर्व को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। शिव भक्त भगवान शिव की पूजा के साथ-साथ नाग देवता की भी पूजा आराधना कर रहे हैं। यह पर शिव भक्तों के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण पर्व है और आज के दिन मंगला गौरी व्रत भी रखा जाता है। घर घर में आज इस पर्व को भक्ति भाव के साथ मनाया जा रहा है।

रावली महादेव मंदिर पर हुई विशेष पूजा अर्चना:-

नाग पंचमी पर्व के अवसर पर रावली महादेव मंदिर पर भी भक्तों की अच्छी खासी भीड़ देखने को मिली। मंदिर पर भी विशेष की गई थी। इस पूजा में शामिल होने के लिए भक्तों की भीड़ भी दिखाई दी। सुबह से ही पूजा का दौर चलता रहा।

रावली मंदिर के महंत ने बताया कि आज मंगलवार को नाग पंचमी पर्व है। शिव भक्तों के लिए बड़ा ही अनूठा संगम है। भक्त सुबह से ही रावली मंदिर पहुंच रहे हैं, जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष है, वह आज यहां आकर विशेष पूजा आराधना कर रहे हैं।

आज के दिन विशेष पूजन से कालसर्प दोष से मिलती है मुक्ति:-

आज के दिन नाग देवता की विधिवत पूजा करने का विधान है। इस दिन नाग देवता और सांपों की विधिवत पूजा करने के साथ दूध पिलाना शुभ माना जाता है। ऐसा करने से कालसर्प दोष से भी छुटकारा मिल जाता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिस व्यक्ति की कुंडली में कालसर्प दोष होता है उसे जिंदगी में किसी न किसी परेशानी का सामना करना पड़ता है। अधिक मेहनत करने के बावजूद रिजल्ट नहीं मिलता है, भलाई करने में बुराई मिलती है, विवाह में देरी होना, बनते काम बिगड़ जाना, साथ ही दुर्घटना होने की आशंका बनी रहती है। इसीलिए जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष होता है आज के दिन वह विशेष पूजा करके इस दोष से मुक्ति पाते हैं।

शिव और नाग देवता की पूजन के बाद नाग को लोगों ने पिलाया दूध:-

रावली महादेव मंदिर पर विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करने के बाद जैसे ही भक्तों मंदिर के बाहर निकले तो कुछ सपेरे नाग देवता को लेकर बैठे हुए थे। भक्तों ने वही दूध खरीदा और नाग देवता को पूरी मनोकामना के साथ दूध पिलाया।

लोगों ने बताया कि आज के दिन अपने हाथों से नाग को दूध पिलाए जाने से सारे मनोरथ और मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और जिन लोगों के कुंडली में कालसर्प दोष होता है उनके लिए तो यह अत्यधिक लाभदायक होता है।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: