Home प्रशासन रेलवे ट्रैक के किनारे बने झुग्गी-झोपड़ियों को हटाने की कवायद शुरू

रेलवे ट्रैक के किनारे बने झुग्गी-झोपड़ियों को हटाने की कवायद शुरू

by admin
The exercise to remove the slums built on the side of the railway track started
Spread the love

Agra. रेल सुरक्षा के लिए खतरा बनी झुग्गी झोपड़ी को रेल प्रबंधन ने हटाने के निर्देश जारी किये हैं। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद रेल प्रबंधन ने आरपीएफ के साथ अभियान शुरू कर दिया है। इसके लिए स्पेशल टास्क फोर्स गठन के साथ ही आगरा दिल्ली रेलवे ट्रैक किनारे अभियान चलाकर सैकड़ों झुग्गी झोपड़ी को हटाया जा रहा है।

हाईटेक ट्रेनों को संचालित करने वाले आगरा नई दिल्ली रेलवे ट्रैक को पर्यटन की दृष्टि से भी अति महत्वपूर्ण माना जाता है। आए दिन ट्रेनों में होने वाली वारदातों और ट्रैक पर होने वाली घटना के चलते रेल प्रबंधन ने पटरियों के किनारे और आस पास की झुग्गी झोपड़ी को हटाने के आदेश दिए हैं।

पिछले दिनों उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में सख्त कदम उठाने के निर्देश जारी किए थे जिसके बाद रेलवे ने कार्यवाही शुरू की थी। रेलवे से प्राप्त जानकारी के मुताबिक आगरा से दिल्ली तक रेल पटरियों के आसपास हजारों की संख्या में झुग्गी झोपड़ियां है। इनको सुरक्षा के लिए खतरा मानते हुए आगरा रेल मंडल के आधा दर्जन स्टेशनों क्षेत्र में विशेष अभियान शुरू किया है। आगरा कैंट से पलवल, आगरा फोर्ट से बांदीकुई और आगरा फोर्ट से एत्मादपुर स्टेशन तक रेलवे अब तक छोटी-बड़ी सैकड़ों झुग्गियां हटा चुका है।

पीआरओ एस के श्रीवास्तव ने बताया कि रेलवे की जमीन पर अवैध अतिक्रमण करने वालों से अभियान चलाकर जमीन खाली कराई जा रही है। आरपीएफ ने आगरा कैंट स्टेशन से दिल्ली छोर पर खेरिया मोड़ पुल के नीचे अवैध रुप से बनी दुकानों, शेड व मकानों को भी ध्वस्त किया गया है। ईदगाह स्टेशन के पास जैन गली, गेट 77 के मध्य परित्यक्त रेल के अलावा एवं अन्य अवैध रूप से निर्मित ठेले, खोमचे आरपीएफ ने हटवाये हैं।

बताया जाता है कि काफी अतिक्रमण तो सुरक्षा जोन में था जो कि चिंता जनक है। झुग्गी हटाने के लिए चरणबद्ध तरीके से काम किया जा रहा है। रेलवे सुरक्षा जोन में सबसे पहले अतिक्रमण हटाने का काम कर रहा है।

The exercise to remove the slums built on the side of the railway track started

आगरा रेल मंडल के पीआरओ पीके श्रीवास्तव ने बताया कि स्टेशनों के आसपास झुग्गी डालकर रहने वाले लोग रेलयात्रियों के लिए खतरा बनते हैं। खानाबदोश परिवारों में ज्यादातरअपराधी होते हैं। यह लोग रेलवे ट्रैक के रास्ते स्टेशन व ट्रैन में प्रवेश करते है और वारदात को अंजाम देकर निकल जाते है। रेलवे की संपत्ति भी इन्ही लोगों के द्वारा की जाती है। यह अभियान समूचे मंडल में चलाया जा रहा है।

The exercise to remove the slums built on the side of the railway track started

आरपीएफ कमांडेंट पीके पांडा ने बताया कि ट्रैक के किनारे रेलवे की जमीन पर झुग्गी झोपड़ी बनाकर रह रहे लोगों से रेलवे का सुरक्षा जोन खतरे में था। आरपीएफ ने पूरे मंडल में झुग्गी झोपड़ी हटाई है और यह अभियान जारी रहेगा

Related Articles