Home धार्मिक Shri Krishna Janmashtami : कोरोना काल में ऐसे मनाएं श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, पूजन का समय-विधि भी जानें

Shri Krishna Janmashtami : कोरोना काल में ऐसे मनाएं श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, पूजन का समय-विधि भी जानें

by admin
Shri Krishna Janmashtami: Celebrate Shri Krishna Janmashtami like this during the Corona period, also know the time and method of worship
Spread the love

पूर्ण अवतार श्रीकृष्ण ने भाद्रपद कृष्ण पक्ष अष्टमी को पृथ्वी पर जन्म लिया था। हर साल इसी दिन श्रीकृष्ण जन्माष्टमी हर साल भारत में मंदिरों और धार्मिक संस्थानों में बड़े स्तर पर मनाई जाती है। त्योहार मनाने के तरीके विभिन्न प्रांतों में भिन्न-भिन्न होते हैं। कई लोग त्योहार के अवसर पर एक साथ आते हैं और इसे भक्ति के साथ मनाते हैं। इस वर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 30 अगस्त को है। यहां हम श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के महत्व के साथ यह भी जानेंगे कि कोरोना संकट के प्रतिबंधों में एक साथ न आने पर भी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की पूजा अपने घर में कैसे की जा सकती है।

Shri Krishna Janmashtami: Celebrate Shri Krishna Janmashtami like this during the Corona period, also know the time and method of worship

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का महत्व

जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण का तत्व सामान्य से 1000 गुना अधिक कार्यरत रहता हैं। इस तिथि पर ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का जप करने के साथ-साथ भगवान कृष्ण की अन्य उपासना भावपूर्ण करने से श्रीकृष्ण तत्व का अधिक लाभ प्राप्त करने में मदद मिलती है। इस दिन व्रत रखने से मासिक धर्म, अशुद्धता और स्पर्श का प्रभाव महिलाओं पर कम होता है।

पर्व मनाने की विधि

इस दिन, दिन भर उपवास कर के बारह बजे बालकृष्ण का जन्मदिन मनाया जाता है। तदुपरांत प्रसाद ग्रहण कर के उपवास का समापन करते हैं अथवा दूसरे दिन सवेरे दहीकाला का प्रसाद ग्रहण कर के उपवास का करते हैं ।

भगवान कृष्ण की पूजा का समय

यू तो जन्माष्टमी का पर्व 30 अगस्त को मनाया जाएगा लेकिन अष्टमी तिथि की शुरुआत 29 अगस्त रात्रि 11 बजकर 25 मिनट से शुरू हो जाएगी। जिसका समापन 31 अगस्त को सुबह 1 बजकर 59 मिनट पर होगा। इसलिए व्रत और पूजा 30 अगस्त को ही की जाएगी। अभिजित मुहुर्त सुबह 11 बजकर 56 मिनट से लेकर रात 12 बजकर 47 मिनट तक रहेगा।

भगवान कृष्ण की पूजा

भगवान कृष्ण जन्म के गीत होने के बाद, भगवान कृष्ण की मूर्तियों या चित्रों की पूजा करनी चाहिए।

  • षोडशोपचार पूजन – जो लोग भगवान कृष्ण की षोडशोपचार पूजा कर सकते हैं, उन्हें ऐसा करना चाहिए।
  • पंचोपचार पूजन – जो लोग भगवान कृष्ण की ‘षोडशोपचार पूजा’ नहीं कर सकते, उन्हें ‘पंचोपचार पूजा’ करनी चाहिए। पूजन करते समय ‘सपरिवाराय श्रीकृष्णाय नमः’ कहकर एक एक उपचार श्रीकृष्ण को अर्पण करें। भगवान कृष्ण को दही-पोहा और मक्खन का भोग लगाना चाहिए। फिर भगवान कृष्ण की आरती करें। (पंचोपचार पूजा: गंध, हल्दी-कुमकुम, फूल, धूप, दीप और प्रसाद)

भगवान श्रीकृष्ण की पूजा कैसे करें

भगवान श्रीकृष्ण की पूजा करने से पहले, उपासक स्वयं को अपनी मध्यमा उंगली से दो खड़ी रेखाओं का गंध लगाये। भगवान श्रीकृष्ण की पूजा करते समय छोटी उंगली के पास वाली उंगली यानी अनामिका से गंध लगाना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण को हल्दी-कुमकुम चढ़ाते समय पहले हल्दी और फिर दाहिने हाथ के अंगूठे और अनामिका से कुमकुम लें और चरणों में अर्पित करें। अँगूठे और अनामिका को मिलाने से बनी मुद्रा उपासक के शरीर में अनाहत चक्र को जागृत करती है। यह भक्तिभाव बनाने में मदद करता है।

video news presented by Minakshi Handu

हम भगवान श्रीकृष्ण को तुलसी दल क्यों अर्पित करते हैं

देवता की पवित्रता देवता का सूक्ष्म कण है। जिन वस्तुओं में किसी विशिष्ट देवता के पवित्रक अन्य वस्तुओं से अधिक आकर्षित करने की क्षमता होती है, वे उस देवता को अर्पित की जाती हैं, तो स्वाभाविक रूप से देवता की मूर्ति में देवता का तत्व प्रकट होता है और इसलिए हमें देवता के चैतन्य का लाभ जल्दी मिलता है। तुलसी कृष्ण तत्व में समृद्ध है। काली तुलसी भगवान कृष्ण के मारक तत्व का प्रतीक है, जबकि हरी तुलसी भगवान कृष्ण के तारक तत्व का प्रतीक है। इसलिए भगवान कृष्ण को तुलसी चढ़ाते है।

भगवान कृष्ण को कौन से फूल चढ़ाएं

चूंकि कृष्ण कमल के फूलों में भगवान कृष्ण की पवित्रकों को आकर्षित करने की उच्चतम क्षमता होती है, इसलिए इन फूलों को भगवान कृष्ण को चढ़ाना चाहिए। यदि फूल एक निश्चित संख्या में और एक निश्चित आकार में देवता के चरणों में अर्पण करें तो देवता का तत्व उन फूलों की ओर आकर्षित होता है। इसके अनुसार भगवान कृष्ण को फूल चढ़ाते समय उन्हें तीन या तीन के गुणांक में लंब गोलाकार रूप में अर्पित करना चाहिए। भगवान कृष्ण को इत्र लगाते समय चंदन का इत्र लगाएं। भगवान कृष्ण की पूजा करते समय, उनके अधिक मारक तत्वों को आकर्षित करने के लिए चंदन, केवड़ा, चंपा, चमेली, खस, और अंबर इनमें से किसी भी अगरबत्ती का उपयोग करे ।

श्रीकृष्ण की मानसपूजा

जो लोग किसी कारणवश श्रीकृष्ण की पूजा नहीं कर सकते, उन्हें श्रीकृष्ण की ‘मानसपूजा’ करनी चाहिए। (‘मानसपूजा’ का अर्थ है कि वास्तविक पूजा करना संभव न होने पर भगवान कृष्ण की मानसिक रूप से पूजा करना)

पूजन के बाद नामजप करना

पूजन के कुछ समय बाद भगवान कृष्ण का ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः’ यह जप करें। अर्जुन की तरह निस्सिम भक्ति’ के लिए भगवान कृष्ण से प्रार्थना करना – इसके उपरांत भगवान श्रीकृष्ण द्वारा श्रीमद्भगवतगीता में दिए हुए, न में भक्त: प्रणश्यति। अर्थात मेरे भक्तों का कभी नाश नहीं होगा। इस वचन का स्मरण कर, अर्जुन के जैसी भक्ती निर्माण होने के लिए श्रीकृष्ण को मन से प्रार्थना करें।’

दहीकाला

विभिन्न खाद्य पदार्थ, दही, दूध, मक्खन को एक साथ मिलाने का अर्थ है ‘काला’। व्रजमंडल में गाय चराने के दौरान, भगवान कृष्ण ने अपने और अपने साथियों के भोजन को मिलाकर भोजन का काला किया और सभी के साथ ग्रहण किया। इस कथा के बाद गोकुलाष्टमी के दूसरे दिन दही को काला करके व दही हांडी तोड़ने का रिवाज हो गया। आजकल दहीकाला के अवसर पर तोड़फोड़, अश्लील नृत्य, महिलाओं के साथ छेड़खानी आदि कृत्य बड़े पैमाने पर होते हैं। इन दुराचारों के कारण पर्व की पवित्रता नष्ट हो जाती है और धर्म के लिए हानिकारक होता है। उपरोक्त दुराचारों को रोकने के प्रयास किए जाने से ही त्योहार की पवित्रता बनी रहेगी और त्योहार का वास्तविक लाभ सभी को होगा। ऐसा करने से समष्टि स्तर पर भगवान कृष्ण की उपासना होती है।

Related Articles