Home प्रशासन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की सुविधाओं को देख प्रमुख सचिव ने पकड़ लिया अपना सिर, जाने क्यों

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की सुविधाओं को देख प्रमुख सचिव ने पकड़ लिया अपना सिर, जाने क्यों

by admin

आगरा। सरकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सा सुविधाओं का क्या हाल है यह देख कर प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण देवेंद्र चतुर्वेदी भी अपना सर पकड़ने लगे। एक तरफ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर गंदगी का अंबार लगा हुआ था तो दूसरे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कमरे गोबर के कंडे से भरे हुए थे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की यह दुर्दशा देखकर प्रमुख सचिव ने अधीनस्थों की जमकर फटकार लगाई और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर सभी व्यवस्थाओं को जल्द से जल्द दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

बुधवार को दो दिवसीय दौरे पर लखनऊ से प्रमुख सचिव स्‍वास्‍थ एवं परिवार कल्‍याण और नोडल अधिकारी देवेंद्र चतुर्वेदी आगरा पहुंचे। यहां पहुँचते ही प्रमुख सचिव सीधे सीएचसी अछनेरा निरीक्षण के लिए गए। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर प्रवेश करते ही प्रमुख सचिव को गंदगी के लगे अंबार देखने को मिले। यह देख उन्‍होंने अधिनस्‍थों की फटकार लगाई। इसके बाद वे दवाओं के स्टॉक का निरीक्षण करने के लिए पहुचे। स्टॉक रूम में एंटी रेबीज वैक्सिन का स्‍टॉक रजिस्‍टर में न मिलने पर उन्‍होंने नाराजगी जाहिर की। प्रसूूताओं को प्रसव के बाद 48 घंटे के तक रोकने का नियम है लेकिन उन्‍हें समय से पूर्व ही घर भेजा जा रहा था। यह देखकर प्रमुख सचिव ने अपनी नाराजगी जाहिर की।

इसके बाद प्रमुख सचिव फतेहपुर सीकरी के सीएचसी पहुंचे। इस सीएचसी में भी प्रमुख सचिव को गंदगी का अंबार देखने को मिला। प्रमुख सचिव गंदगी के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करते इससे पहले ही उनकी नजर एक कमरे में पड़ी जिसमें गोबर के कंडे भरे हुए थे। यह सारी अवस्थाएं देखकर प्रमुख सचिव का आक्रोश सातवें आसमान पर नजर आने लगा। उन्‍होंने तैनात डॉक्‍टरों की जमकर क्‍लास लगाई।

उन्होंने पूछा कि यहां मरीजों का इलाज होता है या फिर यह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोगों के रहने और माल भरने की जगह है। प्रमुख सचिव ने तुरंत फटकार लगाते हुए सीएचसी पर तैनात अधिकारियों को सारी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

फिलहाल प्रमुख सचिव ने अपने इस दौरे से यह अंदाजा जरूर लगा लिया होगा कि आखिर का सरकारी स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सा सुविधाओं का क्या हाल है। इस निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी एनजी रवि कुमार, मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी डॉ मुकेश वत्‍स, एसडीएम किरावली महेश प्रसाद भी मौजूद थे।

Related Articles

%d bloggers like this: