यमुना बचाने के लिए शुरु हुई संकल्प यात्रा

फतेहाबाद। यमुना को बचाने, उसको प्रदूषण से मुक्त करने और जंगल-जल-जमीन को बचाने का संकल्प लेकर संत बंधन दास गिरी महाराज के नेतृत्व में बटेश्वर से चली यात्रा अपने अगले पड़ाव फतेहाबाद में पहुंची गयी है। जहां यात्रा का स्थानीय ग्रामीणों ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया और अरनौटा में अपने प्रवास के पश्चात रविवार सुबह संतों की यात्रा फतेहाबाद के लिए रवाना हुई।

फतेहाबाद में जैसे ही यात्रा ने प्रवेश किया जगह-जगह ग्रामीणों ने यात्रा का स्वागत किया। यात्रा का नेतृत्व कर रहे संत बंधन दास महाराज का कहना था कि यमुना की अविरल धारा को रोककर शहरों के प्रदूषित पानी को यमुना में छोड़ा जा रहा है जिससे जीवनदायिनी यमुना पूरी तरह प्रदूषित हो गई है। इसका जल अब आचमन लायक भी नहीं बचा है। उन्होंने पतित पावनी यमुना को पुनःउसके पौराणिक स्वरूप में लाने का भी संकल्प लिया है।

यात्रा में साथ चल रही साध्वी कुसुम शर्मा ने बताया कि सभी को यात्रा के दौरान इस बात का संकल्प दिलाया जा रहा है कि यमुना में कोई भी गंदगी प्रवाहित न करें। अगर हम अभी नहीं रुके तो हमारी आने वाली पीढ़ियां इस पवित्र नदी का दर्शन ही ना कर पायेगी।

ग्रामीणों ने यात्रा में आए साधु संतों का स्वागत भी किया और उनके संदेशो को जीवन में उतारने की बात कही। यात्रा में प्रमुख रूप से स्वामी वंदन दास गिरी, सियाराम दास, शिवदयाल, हरीशंकर, नारायण दास, बच्चू सिंह, तुलसी दास, दीपक शर्मा, नेत्रपाल, कीर्ति देवी, पूजा कुमारी, यशोदा देवी, दामिनी देवी, कृष्णा भगत, रामबीर, बाबू भारती, जगराम दास, सुल्तान सिंह, ठाकुर दास, त्रिवेन्द्र, प्रहलाद,नित्यानंद आदि उपस्थित रहे। 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*