राहुल गांधी ने भरा नामांकन, पार्टी अध्यक्ष बनना तय

आखिरकार वो घड़ी आ ही गई जिसका ना जाने कब से सोनिया गांधी को इंतजार था और यह इंतजार सोमवार को ख़त्म हो गया।
कांग्रेस में अब औपचारिक रूप से राहुल युग की शुरुआत होने वाली है। राहुल गांधी ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर दिया। सोमवार को पार्टी अध्यक्ष पद के नामांकन की अंतिम तिथि थी। पार्टी अध्यक्ष के पद के लिए नामांकन भरने के साथ ही राहुल गांधी को पार्टी की कमान मिलने का रास्त भी साफ़ हो गया है और जल्द ही राहुल की पार्टी अध्यक्ष की ताजपोसी हो जाएँगी। राहुल गांधी के नामांकन भरने के दौरान पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह उनके प्रस्तावक रहे। राहुल गांधी के नामांकन भरने के साथ ही कांग्रेसियो में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी है। कांग्रेसी राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष के साथ साथ 2019 में प्रधानमंत्री के रूप में भी देखना चाहते है।

चुनाव समिति में शामिल पदादिकारियो ने बताया कि 5 दिसंबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी और 11 दिसंबर को नाम वापसी होना है। उसके बाद ही अध्यक्ष के नाम की घोषणा हो जायेंगी। हालांकि राहुल गांधी का निर्विरोध चुना जाना तय है। चुनाव मैदान में राहुल गांधी अभीतक एकमात्र उम्मीदवार है और कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उनके चुनाव के लिए सभी रास्ते कुल हुए है। इस तरह राहुल गांधी अब अपनी मां सोनिया गांधी के उत्तराधिकारी होंगे जो इस पद पर 19 साल से हैं जिन्होंने पार्टी की जिम्मेदारी ईमानदारी से निभाई है।

पार्टी के जिला अध्यक्ष दुष्यंत शर्मा और शहर अध्यक्ष अबरार हुसैन का कहना था कि राहुल गांधी सभी कांग्रेसियो के नेता है जिनके अध्यक्ष बनने से पार्टी को मजबूती मिलेंगी। वरिस्ठ कांग्रेसी भारत भूषण और ओम शर्मा का कहना था कि राहुल गांधी ने भी ख़ुशी जताई। उनका कहना था कि पिछले कुछ सालो से पार्टी उपाध्यक्ष ने बाखूबी जिम्मेदारी निभाई है। कांग्रेस नेता उमाशंकर और राकेश उपाध्याय ने बताया कि पार्टी की कमान राहुल गांधी को मिले इससे युवा उत्शाहित है और उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चलने को तैयार है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*