पीएम मोदी पर जमकर बरसे प्रवीण तोगड़िया, राममंदिर को छोड़ पहुंच गए मस्जिद

आगरा। अंतरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अध्यक्ष डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया सूरसदन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जमकर बरसे। 21 अक्टूबर को अयोध्या कूच का निमंत्रण देने आए तोगड़िया ने कहा कि हिंदुत्व की छवि वाला व्यक्ति भी आज वोट की खातिर मुसलमानों का हो गया। आज तक किसी भी सरकार ने सेना पर पत्थर मारने वालों के केस वापस नहीं लिए, लेकिन मोदी जी ने ऐसे नौ हजार केस वापस लेकर सेना पर पत्थर मारने वालों के भाईजान बन गए। हमको लगा था कि 56 इंच की छाती वाला आएगा, सेना पर पत्थर मारने वालों पर कारपेट बमबारी करेगा लेकिन ऐसा कुछ नही हुआ ऐसा लगता है कि कोई आंतरिक समझौता हो गया है। इसलिये तो भारत का कोई प्रधानमंत्री पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के यहां बिना निमंत्रण के नहीं गया, लेकिन मोदी जी गुपचुप पहुँच कर वाह वाही लूट लेते है।

प्रवीण तोगड़िया ने संबोधन में साफ कहा कि जिसको मंदिर भेजा था, लेकिन वो मस्जिद में जा पहुँचे। जिस नाम पर सरकार बनी। चुनावी मुद्दा रहा, चार साल से उस रामलला के दर्शन करने का समय उन्हें नहीं मिला। आज भी देश के मुखिया को प्रवीण तोगड़िया से मिलने का समय नहीं है क्योंकि यह हिन्दुओं का नेता है। मोदी जी ने मुसलमानों से आतंरिक समझौता कर लिया है, इसलिए मस्जिद जाते हैं। तभी तो कहते हैं कि मुसलमानों के बिना हिन्दुत्व अधूरा है।

सूरसदन सभागार में हुए कार्यक्रम में राम मंदिर खूब गूंजा। प्रवीण तोगड़िया ने नारे भी लगवाए कि सौगंध राम की खाते हैं- मंदिर वही बनाएंगे। इसके साथ ही सभी को चलो अयोध्या का न्योता भी दे दिया। प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि अब भाजपा ऑक्सीजन पर आ गई तो राम की याद आ गयी। कहा कि राम मंदिर सोमनाथ की तर्ज पर बनाएंगे। सरकार आ गई तो एससी-एसटी कानून बना रहे हैं। मोदी कहते हैं कि एससी-एसटी पर कोर्ट नहीं, संसद निर्णय करेगा। राम मंदिर की बात आई तो कहते हैं कि कोर्ट ही निर्णय़ करेगा। राम मंदिर पर उन्हें संसद दिखाई नही देती है। हिन्दुओं के साथ ये विश्वासघात है या नहीं? वादा किया था कि बहुमत आन के बाद राम मंदिर के लिए कानून बनाएंगे। अखिल ब्रह्मांड के नायक के लिए कानून क्यों नहीं बनाया। प्रधानमंत्री आवास योजना में ही राम को घर दे देते।

इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अध्यक्ष डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने अन्य मुद्दों पर भी भाजपा के साथ मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी जी ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को छोड़ दिया है और कांग्रेसी रीता बहुगुणा को सम्मानित किया। कार्य करने वाला भाजपा कार्यकर्ता रो रहा है। कांग्रेसमुक्त भारत बनाया, लेकिन भाजपा को ही कांग्रेसयुक्त बना डाला।

प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि कर्ज के कराण तीन लाख 10 हजार किसानों ने आत्महत्या की। किसानों ने फसल पर लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य मांगा था, लेकिन नहीं दिया। गरीबी मुक्त भारत, शिक्षायुक्त बच्चे, रोजगार युक्त युवा, कर्जमुक्त किसान, अयोध्या में राम का मंदिर चाहिए। हमें चार साल पहले लगा कि हमारी सरकार आई है, लेकिन कुछ भी पूरा नहीं हुआ।

प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि भारत में 19 करोड़ लोग भूखे सो जाते हैं। शिक्षा का व्यापारीकरण कर दिया। सरस्वती मां को बेच डाला। 1975 में डॉक्टर बनने के लिए एक महीने की फीस थी 25 रुपया। वर्ष में 300 रुपये भरकर एमबीबीएस डॉक्टर बनता था। आज डॉक्टर बनने के लिए एक करोड़ रुपया चाहिए। अब रोजगार कहां है? 4.22 लाख ग्रेजुएट बेरोजगार हैं। कुल 10 करोड़ बेरोजगार हैं। रेलवे में एक लाख लोगों की जगह के लिए प्रार्थनापत्र मांगे गए। एक करोड़ लोगों ने आवेदन किया। यह देश बेरोजगार युवाओं का देश बन गया। सत्ता में बैठने वालों को अम्बानी, माल्या और नीरव मोदी की चिन्ता है, आपके रोजगार की चिन्ता नहीं है। केन्द्र और राज्य सरकार में 24 लाख नौकरियों की जगह खाली है। मोदी ने चार साल में रोजगार दिलाया क्या? 24 लाख लोगों को रोजगार दिलाने के लिए मेरे साथ संघर्ष करने के लिए तैयार हो जाओगे क्या? हमें अयोध्या में राम का मंदिर और 10 करोड़ युवाओं के लिए रोजगार भी चाहिए।

प्रवीण तोगड़िया ने जीएसटी और नोटबन्दी पर भी प्रहार किया उनका कहना था कि आज मोदी जी की नजरों में व्यापारी चोर हो गया। जो व्यापारी टैक्स देता है, वह भारत में गुनहगार बन गया। नोटबंदी और जीएसटी से व्यापार की कमर ही नहीं तोड़ी, लाखों लोगों को रोजगार छीन लिया। टाटा-बिरला पर 28 फीसदी और लघु उद्योग पर 5 फीसदी टैक्स था। जीएसटी के बाद लघु उद्योग पर भी 28 फीसदी टैक्स हो गया। लाखों लघु उद्योग बंद हो गए। मोदी ने अमेरिकन कंपनी को अपना माल बेचने के लिए आमंत्रित किया है। इससे छह करोड़ दुकानें बंद हो जाएँगी। 10 करोड़ का रोजगार बंद हो जाएगा। हमें चाहिए समृद्धि औऱ युवाओं को रोजगार।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*