Home agra एक ट्रिलियन डालर इकोनॉमी को बढ़ावा देगा एक ब्लॉक एक उत्पाद योजना

एक ट्रिलियन डालर इकोनॉमी को बढ़ावा देगा एक ब्लॉक एक उत्पाद योजना

by admin
One block one product scheme to boost one trillion dollar economy

आगरा। एक ट्रिलियन डालर इकोनॉमी को बढ़ावा देगा एक ब्लॉक एक उत्पाद योजना। किसानों की आय भी दोगुनी होगी।

फतेहाबाद स्थित होटल डबल ट्री में इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के राष्ट्रीय अधिवेशन का आयोजन हुआ और व्यापाक औद्योगिक सर्वे योजना की भी जानकारी दी कहा की इससे किसानों आय भी दुगनी होंगी।

भारत सरकार द्वारा किसानो की आय को दुगना करने के लक्ष्य और उत्तर प्रदेश सरकार के वर्ष 2022 तक एक ट्रिलियन डालर इकनोमि के लक्ष्य में सहयोग करने के लिए प्रत्येक जनपद के ब्लॉक स्तर तक व्यापाक औद्योगिक सर्वे करने की योजना बनायीं जा रही है । आईआईए एक तहसील एक उत्पाद का प्रस्ताव भी उत्तर प्रदेश सरकार को प्रस्तुत करेगा | प्रयास किया जायेगा की सरकार की जनपद स्तर पर ओडीओपी योजना को ओटीओपी (एक तहसील एक उत्पाद) के माध्यम से ब्लॉक स्तर तक ले जाया जा सके ।

ये कहना था फतेहाबाद रोड स्थित डबल ट्री बाय हिल्टन होटल में आयोजित राष्ट्रीय अधिवेशन में इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक अग्रवाल का। उन्होंने आगे कहा कि बहुत सारे ऐसे उत्पाद प्रदेश स्तर पर उत्पादित किये जाते है जिनको अन्य राज्यों में प्रोसिंग हेतु भेजा जाता है और अपने ही प्रदेश के मजदूर रोजगार के लिए भी अन्य राज्यों में रोजगार के लिए पलायन करते है।

इस योजना के तहत उन उत्पादों की प्रोसेजिंग के लिए उसी ब्लोक एवं तहसील में कारखाना खुलने से एक ओर जहाँ मजदूरो को रोजगार मिलेगा दूसरी ओर प्रदेश में रेवेनू में भी वृद्धि होगी ।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नीरज सिंघल ने कहा कि लगभग ग्यारह हज़ार एमएसएमई यूनिट उत्तर प्रदेश में कार्य कर रही है| प्रदेश में सबसे अधिक रोजगार एमएसएमई से मिलता है | किसानो और एमएसएमई के सामजस्य को स्थापित किया जायेगा | अन्य राज्यों की तरह सरकार की मदद से अपने प्रदेश में औद्योगिक यूनिट लगे तो रोजगार के अवसर बढ़ेंगे | अन्य राज्यों में लगने वाली मशीन यहाँ लगे तो ढूलाई का रुपया किसानो को मिलेगा |

महासचिव दिनेश गोयल ने कहा कि उत्तर प्रदेश को उद्योग में आगे लाने के लिए अन्य प्रदेशो से इन्वेस्टर को वापस अपने राज्य में बुलाना होगा | औद्योगिक सर्वे हेतु जनपद के विभिन्न शैक्षिक व व्यवसायिक संस्थानों का चयन किया जा रहा है जिसके साथ मिलकर इंडस्ट्रीज- इंस्टिट्यूट इंटरेक्शन स्थापित किया जायेगा ।

राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष अलोक अग्रवाल कहा कि जलालाबाद में मूंगफली का बड़ा उत्पादन होता है लेकिन इसका तेल गुजरात व अन्य राज्यों में निकाला जाता है| मक्का यहाँ से पंजाब भेजी जाती है वहां उससे बनने वाले उत्पादों के लिए प्रोसेसिंग होती है इसी तरह कही फसल बहुतायत है तो कही कुछ खास उत्पाद बनते है पर स्थानीय किसान व व्यापारी को लाभ नहीं मिल पता है | खेती बदल रही है सरसों, मक्का का भी उत्पादन बढ़ रहा है। फलो व सब्जियों के प्रति किसानो का रुझान बढ़ा है इनकी प्रोसेसिंग व उत्पाद तैयार करने की मशीने लगेंगी तो रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

अधिवेशन के समापन पर आगरा चेप्टर के चेयरमेन अंशुल अग्रवाल द्वारा सभी का धन्यवाद दिया गया । इस अवसर पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष केआर सिंघल, सुरेश सुन्दरानी, राजीव बंसल, आरके धवन, सतीश गुप्ता, राष्ट्रीय सचिव अमर मित्तल, सूर्य प्रकाश हवेलिया, पूर्व अध्यक्ष प्रमोद मिगलानी, पंकज गुप्ता, अजय गुप्ता आदि मौजूद रहे ।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: