Home आगरा नवरात्रि के अंतिम दिन शहर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश, मंदिर किया क्षतिग्रस्त मूर्ति की खंडित

नवरात्रि के अंतिम दिन शहर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश, मंदिर किया क्षतिग्रस्त मूर्ति की खंडित

by admin

Agra. नवरात्रि के आखिरी दिन असामाजिक तत्वों ने शहर की फिजा को बिगाड़ने का पूरा प्रयास किया। दो जगह मंदिरों को क्षतिग्रस्त किया गया। मंदिरों में रखी मूर्तियां खंडित होने से श्रद्धालुओं में आक्रोश फैल गया। लोगों ने मंदिर पर प्रदर्शन करते हुए अपनी नाराजगी भी व्यक्ति की। घटना की सूचना मिलते ही दोनों स्थानों पर पुलिस मौके पर पहुंच गई और स्थिति को संभालने का पूरा प्रयास किया।

शंकर गिरी पथवारी मंदिर का मामला

पहला मामला ताजगंज थाना क्षेत्र के एकता चौकी के समीप स्थित शंकर ग्रीन के पास का है, जहां बरसों पुराने पथवारी मंदिर को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। देवी मां की मूर्ति भी खंडित कर दी गई। सुबह जब श्रद्धालु पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे तो उन्हें मंदिर क्षतिग्रस्त मिला और मूर्तियां वहां नहीं मिली। श्रद्धालुओं द्वारा जब इधर उधर देखा गया तो नाली के पास देवी मां की मूर्ति पड़ी हुई थी। यह दृश्य देखकर श्रद्धालुओं में आक्रोश फैल गया और उन्होंने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही हिंदूवादी भी मौके पर पहुंच गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने बमुश्किल इस स्थिति को संभालने का प्रयास किया।

विक्षिप्त ने की मूर्तियां खंडित

श्रद्धालुओं के आक्रोश को देखते हुए पुलिस भी पूरी जांच-पड़ताल में जुट गई तो पता चला कि एक विक्षिप्त ने इस घटना को अंजाम दिया है। पुलिस ने लोगों को बमुश्किल समझाया कि किसी असामाजिक तत्व नहीं बल्कि विक्षिप्त व्यक्ति ने इस घटना को अंजाम दिया है तब जाकर लोगों का आक्रोश शांत हुआ।

लोगों में दिखा आक्रोश

मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि यह कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी मंदिर को क्षतिग्रस्त किया गया और दीवार व छत को भी तोड़ा गया। हर बार इस तरह की घटना सामने आती है लेकिन पुलिस कोई उचित कार्रवाई नहीं करती। अब बताया गया कि एक विक्षिप्त व्यक्ति ने इस घटना को अंजाम दिया है।

दूसरी घटना थाना मलपुरा के धनौली क्षेत्र की है, जहाँ एक देवी मंदिर में मंगलवार सुबह शरारती तत्वों ने मूर्ति खंडित कर दी। पूजा करने लोग मंदिर में पहुंचे तब इसकी जानकारी हुई। इसके बाद तनाव की स्थिति बन गई। पुलिस लोगों को समझाकर शांत किया।

नगला शंकरलाल का है मामला

धनौली के नगला शंकरलाल में दुर्गा देवी की मूर्ति स्थापित है। मंदिर तीस वर्ष पुराना बताया जा रहा है। नवरात्र में यहां देर रात तक माता की भेंट गाई जाती हैं और सुबह से ही लोग पूजा करने को आना शुरू हो जाते हैं। मंगलवार सुबह राकेश कुमार, मनोज और अमर पूजा करने मंदिर में पहुंचे तो वहां मूर्ति खंडित मिली। उन्होंने आसपास के लोगों को इसकी जानकारी दी। थोड़ी देर में ही मंदिर में बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए। पुलिस को भी सूचना दे दी गई। फोर्स के साथ अधिकारी मौके पर पहुंच गए और लोगों को समझाने का प्रयास कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: