नितिन गडकरी को वादा याद दिलाने को गर्म रेत से किया स्नान

आगरा। शहर में यमुना नदी की हो रही दुर्दशा से आहत होकर यमुना प्रेमियों ने यमुना को बचाने की मांग को लेकर यमुना नदी में अनोखा प्रदर्शन किया। शहर में रिवर कनेक्ट अभियान चला रहे यमुना प्रेमियों के साथ इस अभियान से जुड़े लोग इस भीषण गर्मी में यमुना नदी में पहुँचे जहाँ सूरज की तपिश और 45-46 डिग्री सेल्सियस के तापमान के बीच सभी लोगों ने अर्ध नग्न अवस्था में तपती हुई यमुना नदी की रेत से स्नान किया और स्थानीय प्रशासन, प्रदेश व केंद्र सरकार के प्रति अपनी नाराजगी जताई। इतना ही नही कई घंटों तक चले इस प्रदर्शन के दौरान यमुना प्रेमियों ने सरकार और स्थानीय प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और यमुना को जीवंत रूप देने के लिए प्रदेश व केंद्र सरकार की ओर से किये गए वायदों को भी याद दिलाया।

यमुना प्रेमियों का कहना था कि यमुना नदी में पानी नहीं है। मथुरा से पानी नहीं छोड़ा जा रहा है जिससे दिन प्रतिदिन यमुना की दुर्दशा होती चली जा रही है। शहर में यमुना नदी, नदी नही रही है बल्कि स्थानीय प्रशासन ने इसे नाला बना दिया है। शहर के सभी नाले इस यमुना में गिर रहे है लेकिन प्रशासन और सरकार की आंखें बंद है इन बंद आंखों को खोलने के लिए ही यह प्रदर्शन किया गया है।

रिवर कनेक्ट अभियान चला रहे लोगों ने प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ और केंद्र सरकार के कैबिनेट मंत्री नितिन गडकरी को आड़े हाथ लिया। उनका कहना था कि नितिन गडकरी ने पांच साल पहले यमुना में स्टीमर चलाने का एलान किया था वो स्टीमर आज तक नहीं चल पाए। स्टीमर तो छोड़ो यह मंत्री तो यमुना में भरपूर पानी तक नही ले पाए। जब पानी ही नही तो स्टीमर का क्या होगा और वो कैसे चलेंगे शायद इसलिए वो अपना वायदा भूल गए। इतना ही नही सूबे के मुखिया तो यमुना को जीवन रूप देने के लिए रबर डेम की नींव तक रख गए थे लेकिन आज तक वो रबर डेम भी नही बन पाया है। यमुना नदी के साथ मजाक सा किया जा रहा है जिसे बर्दाश नही किया जाएगा।

रिवर कनेक्ट संस्था के पदाधिकारियों ने कहा कि आज तो अर्धनग्न होकर यमुना नदी की तपती रेत से स्नान किया गया है। अगर सरकार ने अभी भी कोई यमुना को बचाने के लिए ठोस कदम नहीं उठाया तो इससे भी उग्र प्रदर्शन होगा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*