श्रम विभाग की उदासीनता के चले कई मजदूर संगठन उतरे विरोध में, किया ये एलान

लखनऊ। मजदूरों को श्रम विभाग की ओर से मिलने वाले लाभ को पिछले 6 महीनों से रोक दिया है जिससे मजदूरों की आर्थिक स्थिति भी दिन प्रतिदिन खराब होती चली जा रही है। श्रम विभाग की कार्यप्रणाली से नाराज होकर मजदूरों के हित में काम करने वाले सभी मजदूर संगठन एक हो गए हैं और श्रम विभाग के साथ साथ सरकार के खिलाफ भी मोर्चा बंदी कर रहे हैं। मजदूरों की समस्याओं को लेकर राजधानी लखनऊ के प्रेस क्लब में एक आवश्यक बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में में उत्तर प्रदेश ग्रामीण मजदूर संगठन भवन निर्माण कर्मकार मजदूर यूनियन और भारतीय ग्रामीण मजदूर संगठन के अध्यक्षों और सदस्यों ने शिरकत की और मजदूरों की तमाम समस्याओं को लेकर मंथन किया गया।

सबसे बड़ी समस्या श्रम विभाग की ओर से मजदूरों को मिलने वाला वह लाभ था जो मजदूरों की आर्थिक स्थिति को सुद्रण बनाता था लेकिन वो पिछले 6 महीनों से नही मिला है। इतना ही नही न्यूनतम मजदूरी के साथ साथ मजदूरों की समाजिक सुरक्षा पर भी सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही है जिसको लेकर सरकार की मोर्चा बंदी की जाएगी। बैठक के बाद पत्रकार वार्ता आयोजित हुई।

उत्तर प्रदेश ग्रामीण मजदूर संगठन के अध्यक्ष तुलाराम शर्मा का कहना था कि पिछले 6 महीनों से मजदूरों को श्रम विभाग से कोई लाभ नहीं मिल रहा है। यह क्यों रोका गया इसका जबाब अधिकारी नहीं दे रहे हैं। ठेके पर काम करने वाले मजदूरों को उनकी मजदूरी नहीं मिल रही है। केंद्र व राज्य सरकार के अधीन योजनाओं के माध्यम से मजदूरों को समाजिक सुरक्षा प्रदान नही हो पा रही है। इन सभी समस्याओं को लेकर जल्द ही सरकार के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*