Home राजनीति ‘रेलवे में चामुंडा मंदिर की एक इंच भी जमीन ली तो इसका अंजाम भुगतना होगा’ – विहिप बजरंग दल का एलान

‘रेलवे में चामुंडा मंदिर की एक इंच भी जमीन ली तो इसका अंजाम भुगतना होगा’ – विहिप बजरंग दल का एलान

by admin
'If you take even an inch of land of Chamunda temple in the railways, you will have to face the consequences' - VHP Bajrang Dal announced

Agra. ‘राजा मंडी रेलवे स्टेशन पर स्थित प्राचीन चामुंडा मंदिर की एक इंच भूमि को भी रेलवे ने लिया या फिर उस मंदिर पर रेलवे द्वारा एक भी खरोच दी गई तो उसका अंजाम भुगतने के लिए आगरा रेल मंडल को तैयार रहना होगा। डीआरएम को उसकी कुर्सी से हिलाने और उतारने का काम विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल करेगा।’ यह ऐलान विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल के प्रांत सह संयोजक दिग्विजय नाथ तिवारी ने किया।

बरसों पुराना है मंदिर

राजा मंडी रेलवे स्टेशन पर बने चामुंडा देवी मंदिर को हटाए जाने पर अब सियासत गरमाने लगी है। तमाम हिंदूवादी संगठन आगरा रेल मंडल के विरोध में खड़े होते हुए नजर आ रहे हैं। साधु संत भी रेलवे के इस कदम की निंदा कर रहे हैं। विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल के प्रांत सह संयोजक दिग्विजय नाथ तिवारी का कहना है कि स्टेशन पर यह मंदिर काफी प्राचीन है, यहां भारी संख्या में भक्त आते हैं। गाड़ी से उतरने वाला हर यात्री इस मंदिर को प्रणाम करने के बाद ही घर जाता है। अगर इस प्राचीन मंदिर को हटाया गया या इसे 1 इंच भी तोड़ा गया तो डीआरएम आनंद स्वरूप की कुर्सी हिलना तय है।

10 अप्रैल 2022 को आगरा रेलवे मंडल ने एक नोटिस लगाया था कि रेलवे स्टेशन राजा की मंडी के प्लेटफार्म नंबर 1 से मंदिर को हटा लिया जाए नहीं तो रेलवे प्राचीन चामुंडा मंदिर को हटाने का कार्य करेगा। नोटिस के 10 दिन बीत जाने के बाद आगरा डीआरएम ने कहा कि मंदिर इस बार हटकर ही रहेगा। इसके बाद सियासत तेज हो गई है। मंदिर के महंत ने भी कहा कि जिस किसी ने भी मंदिर हटाने का प्रयास किया उन अधिकारियों की तस्वीरों पर माला लटकी हुई है। इसलिए मंदिर हटाने का कोई भी प्रयास न करें। हिंदू वासियों का कहना था कि इस समय भाजपा की सरकार है और इस सरकार में मंदिरों पर बाद किसी भी तरह से बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

डीआरएम के ट्वीट से मचा हड़कंप

आगरा रेल मंडल के प्रबंधक आनंद स्वरूप ने 25 अप्रैल को ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने कहा था कि यदि मंदिर नहीं हटता है तो राजा मंडी रेलवे स्टेशन का बंद होना सुनिश्चित है। उन्होंने कहा कि मंदिर के ट्रस्टी प्लेटफार्म नंबर एक से मंदिर का 70 वर्ग मीटर हिस्सा जल्द हटाएं, क्योंकि रेलवे की 1716 वर्ग मीटर जगह है, जिसको वह लेकर ही रहेगा।

लंबी खींचेगी लड़ाई

चामुंडा देवी मंदिर को लेकर हिंदूवादी और रेलवे प्रशासन आमने-सामने आ गया है और कोई दीपक झुकने को तैयार नहीं है, बीच का रास्ता भी नहीं निकल पा रहा है। ऐसे में मंदिर को लेकर लड़ाई और लंबी खींचने वाली है।


Related Articles