हृदय रोगी महिला मरीज ने ईलाज़ के लिए लगाई गुहार, होम क्वारन्टीन में घर मे बंद है परिवार

आगरा। हृदय रोगी महिला मरीज को अपना ईलाज़ कराने के लिए तीन शहर में भटकना पड़ा। कोरोना की तीन बार जांच कराई, एक बार पॉजिटिव तो दो बार नेगेटिव आई, फिर माँ की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पूरा परिवार होम क्वारन्टीन कर दिया लेकिन पीड़ित हृदय रोगी महिला को ईलाज़ न मिल सका। परिवार के मुखिया का आरोप है कि प्रशासन ने ईलाज़ देने के बजाय उन्हें क्वारन्टीन कर दिया है जबकि पीड़ित बेटी को ईलाज़ की जरूरत है। महिला मरीज साधना मलपुरा थाना क्षेत्र के अजीजपुर में रहती है।

महिला मरीज साधना के कमर में चोट है और हृदय रोग से ग्रसित है। इसी का इलाज कराने के लिए साधना के परिजनों ने पहले आगरा के चिकित्सकों से इलाज शुरू करवाया। इलाज शुरू होने से पहले महिला की कोरोना रिपोर्ट मंगवाई गई जिसमें कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। मगर हृदय से संबंधित बीमारी का इलाज कराने के लिए महिला को दिल्ली जाना पड़ा। दिल्ली में इलाज शुरू कराने से पहले एक बार फिर महिला मरीज की रिपोर्ट की जांच हुई। जिसमें महिला साधना पॉजिटिव आ गई, दिल्ली के डॉक्टरों ने साधना का इलाज करने से मना कर दिया। अपना इलाज कराने के लिए साधना दिल्ली से जयपुर के लिए रवाना हुई। जयपुर में इलाज शुरू होने से पहले एक बार फिर साधना की कोरोना रिपोर्ट मंगवाई गई। तब रिपोर्ट नेगेटिव आई मगर साधना को जयपुर के डॉक्टरों ने यह कहकर हटा दिया कि साधना इस समय सही है। लिहाजा साधना अपने घर आगरा अजीजपुर पहुंची। अजीजपुर पहुंचने के बाद साधना के परिवारीजनों पर आगरा के सीएमओ कार्यालय से फोन आए कि आपकी मां पॉजिटिव है, लिहाजा आपको होम क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है।

महिला मरीज साधना के परिजनों का आरोप है कि आगरा जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने इलाज देने की बजाय पूरे परिवार को होम क्वॉरेंटाइन कर दिया है। पीड़ित परिवार की बेटी गरिमा अस्थाना का कहना है कि गली को बल्ली लगाकर ब्लॉक कर दिया गया है। ऐसे में मेरे साथ में अगर कुछ भी अनहोनी होती है तो उसका जिम्मेदार आगरा का प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग होगा।

यह कोई पहला मामला नहीं है। जब स्वास्थ्य विभाग की घोर लापरवाही सामने आई हो। इससे पूर्व में भी तमाम मामलों में स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली कटघरे में खड़ी हुई है। मगर अब देखना होगा कि इस मामले में स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन पीड़ित महिला मरीज साधना के परिवार की क्या मदद कर पाता है।

About admin 4357 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।