पूर्व विधायक को किया बसपा से निष्कासित, गबन का लगा आरोप

आगरा। बसपा पार्टी में आगरा जिले से कुशवाहा समाज के कद्दावर नेता और खेरागढ़ से दो बार विधायक रह चुके भगवान सिंह कुशवाहा को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। यह कार्रवाई बसपा सुप्रीमो मायावती के निर्देश पर की गई है।

संगठन के पदाधिकारियों का कहना है कि काफी दिनों से बसपा के पूर्व विधायक भगवान सिंह कुशवाहा पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त है जिसकी जांच की गई थी। साथ ही पूर्व विधायक बाबू सिंह कुशवाहा पर पार्टी की सदस्यता का रुपया हड़पने का भी आरोप लगाया है। पार्टी नेताओं का कहना है कि काफी समय से भगवान सिंह कुशवाहा पार्टी फंड में रुपया जमा नहीं कर रहे थे जिसके बाद बसपा सुप्रीमो ने इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है।

आगरा बसपा के जिलाध्यक्ष डॉ भारतेंदु अरुण द्वारा जारी किए गए पार्टी लेटर में यह साफ लिखा है कि भगवान सिंह कुशवाहा को पार्टी की सदस्यता की धनराशि ना देने गबन करने और बार बार चेतावनी के बाद अनुशासनहीनता करने के चलते खेरागढ़ विधानसभा की कमेटी, सेक्टर कमेटी की बैठक बुलाकर उन्हें निष्कासित कर दिया गया।

बसपा पार्टी के पूर्व विधायक और कुशवाहा समाज के कद्दावर नेता भगवान सिंह कुशवाहा को पार्टी से निष्कासित करने से पूर्व खेरागढ़ बसपा पार्टी की ओर से एक बैठक का आयोजन किया गया था जिसमें खेरागढ़ विधानसभा के बसपा कार्यकर्ताओं, बूथ कार्यकर्ताओं, बसपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ-साथ कुशवाहा समाज के लोगों को बुलाया गया था। सभी के सामने बसपा सुप्रीमो के इस निर्देश के इस फरमान को सुनाकर बसवा से भगवान सिंह कुशवाहा के निष्कासित होने की घोषणा कर दी गई।

पार्टी से पूर्व विधायक के निष्कासन की घोषणा पर पार्टी नेताओं ने भी अपने विचार रखे। उनका कहना था कि विधायक पूर्व विधायक पर जो आरोप लगे हैं वह बिल्कुल सही है। काफी समय से विधायक पार्टी के लिए काम नहीं कर रहे थे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*