चम्बल के बीहड़ क्षेत्र में लगी भयंकर आग, कई गाँव के पास पहुंची आग की लपटें

पिनाहट। थाना मनसुखपुरा के रेहा ग्राम पंचायत के नीचे चम्बल का बीहड़ दोपहर को आग की तेज लपटों के साथ जल उठा। ग्रामीणो ने वन विभाग को सूचना दी।  किन्तु देर शाम तक कोई नहीं पहुंचा। नतीजा यह हुआ कि आग ने धीरे धीरे करीब पांच किलोमीटर के एरिया को अपनी चपेट में ले लिया। जिससे चम्बल के किनारे के दर्जन भर गाँव की तेज लपटों के चलते घिर गये और जंगली जीव जन्तु भी भीषण आग के चलते व्याकुल नजर आये।

बता दें कि चम्बल नदी का ये बीहड़ इलाका विशाल वृक्षों और जंगली जानवरों से भरा है। चम्बल सेंचुरी एरिया में काले हिरन, नील गाय, खरगोश जैसे जंगली जानवरों की प्रजातियां आज भी पायी जाती है लेकिन इस भीषण आग से इन जंगली जानवरों को बचना मुश्किल हो गया है।

ग्रामीणों ने बताया कि आग की तेज लपटें रेहा गाँव से उठती हुई धीरे धीरे पड़ौस के गांव तासौड, सुखभानपुरा, कऐडी, बडापुरा, बाजकापुरा, जगतूपुरा, मनसुखपुरा के नीचे के बीहड़ इलाके में पहुँच गयी ।

आग ने एक विकराल रूप धारण कर लिया और चम्बल के बीहड़ के करीब 5 किलो मीटर का एरिया को जलाकर राख में बदल दिया है। आग इतनी भीषण है कि उसकी लपटों की गर्माहट से किलोमीटर दूर बसे गांव के ग्रामीणो को भी आग की लपटें सता रही हैं। वहीं रेहा ग्रामपंचायत के पूर्व प्रधान अजय कौशिक ने बताया कि रेंजर बांह अमित सिसोदिया को फोन पर सूचना दे दी गयी थी लेकिन अब तक आग को बुझाने के लिये कोई नहीं आया। ग्रामीणों के अनुसार देर शाम तक आग की लपटें बढ़ती हुई नजर आयीं है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*