अठारह सौ कलाकार ताज महोत्सव में लगाएंगे चार चाँद, जाने क्या होगा ख़ास

आगरा। 27 वां ताज महोत्सव का रंगारंग आगाज 18 फरवरी यानी रविवार शाम से हो जायेगा। दस दिनों तक चलने वाले इस ताज महोत्सव में पूरे भारत की संस्कृति एक ही मंच पर देखने को मिलेगी। देशी-विदेशी पर्यटक भारत वर्ष के संस्कृति और कला से रूबरू होंगे। मुक्ताकाशीय मंच पर प्रतिदिन रंगारंग प्रस्तुतियां होगी जिनका शहरवासी और पर्यटक जमकर लुफ्त उठाएंगे।

महोत्सव में इस बार सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इन्तेजाम किये गए है। सीसीटीवी कैमरों के अलावा पूरे शिल्पग्राम में पुलिस कर्मी, महिला कांस्टेबल भी अपनी नजर बनाए रखेंगे। महोत्सव में आने वाली भीड़ को नियंत्रित करने के लिए विशेष ट्रैफिक इंतजाम भी किए गए हैं।

शनिवार को कमिश्नर आगरा ने प्रेसवार्ता कर 18 फरवरी से शुरू हो रहे ताजमहोत्सव के कार्यक्रमों की जानकारी दी। महोत्सव का शुभारंभ 18 फरवरी को श्रीराम भारती कला केंद्र द्वारा श्रीराम पर नृत्य नाटिका से होगा। ताज महोत्सव में इस बार थीम ‘धरोहर’ चुनी गई है। इसी के अनुरूप इस बार महोत्सव के लिए शिल्पग्राम में सजावट की गई है। महोत्सव में इस बार करीब 365 स्टॉल लगाई जा रही हैं। इनमें से करीब 275 स्टॉल देशभर से आने वाले शिल्पियों के लिए रहेंगी। 

महोत्सव में होने वाले कार्यक्रम –

18 फरवरी – उद्घाटन कार्यक्रम में श्रीराम भारती कला केंद्र द्वारा श्रीराम पर नृत्य नाटिका प्रस्तुति दी जाएगी।
19 फरवरी – मालिनी अवस्थी की प्रस्तुति होगी।
20 फरवरी – बॉलीवुड नाइट में रामलीला फिल्म के गीत राम चाहे लीला चाहे… की गायिका भूमि त्रिवेदी की प्रस्तुति होंगी।
21 फरवरी – असलम साबरी की कब्बाली का आयोजन किया जाएगा।
22 फरवरी – बॉलीवुड नाइट मे विपिन सचदेवा और पुणे का ब्लैक एंड व्हाइट ग्रुप की प्रस्तुति।
23 फरवरी – मुशायरा।
24 फरवरी – कवि सम्मेलन का आयोजन।
25 फरवरी – बॉलीवुड नाइट को कलाकार तय होना है।
26 फरवरी – बॉलीवुड नाइट में गायक आदित्य नारायण का कार्यक्रम प्रस्तावित है।
27 फरवरी – बॉलीवुड नाइट मे गायिका पलक मुच्छल व पलाश मुच्छल की प्रस्तुतियां।

महोत्सव देखने आने वाले दर्शकों के लिए इस बार 50 रुपये टिकट रखा गया है। पांच साल तक के बच्चों का प्रवेश नि:शुल्क होगा, वहीं पांच से दस साल तक के बच्चों का टिकट दस रुपये रखा गया है।

रविवार को ताजमहोत्सव 2018 का आगाज होगा। 18 से 27 फरवरी तक चलने वाले समारोह में हर रोज मुक्ताकाशीय मंच पर प्रस्तुति दी जाएंगीं। इसके साथ ही यूपी सहित अन्य प्रदेशों की स्टॉल से लोग खरीदारी कर सकेंगे।

ताजमहोत्सव में इस बार प्रदेश भर के शिल्पियों का जमावड़ा होगा। सहारनपुर का वुड क्राफ्ट, कश्मीर का सूट और पशमीना शॉल, गुरुग्राम का टेराकोटा, पश्चिम बंगाल की कांथा साड़ी, वाराणसी की सिल्क साड़ी, बिहार का सिल्क वस्त्र, भदोही का कारपेट, लखनऊ का चिकन वस्त्र, आंध्र प्रदेश का क्रोशिया और सिल्क वस्त्र, प्रतापगढ़ का आंवला उत्पाद, असोम का केन फर्नीचर, गुजरात का शॉल, खुर्जा की क्रॉकरी,संभल का बोनक्राफ्ट, पिलखुआ की चादर, पंजाब की फुलकारी मिलेगी। ताजमहोत्सव में शिल्पी भारत सरकार के वस्त्र मंत्रालय हथकरघा विभाग के 53 शिल्पी महोत्सव में आमंत्रित किए हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*