यूपी बोर्ड परीक्षा सेंटर बनाने में हुआ बड़ा खेल, करोड़ों का भ्रष्टाचार

आगरा। उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बार बोर्ड परीक्षाओं को नकलविहीन कराने की कोशिश की है। इसके लिए इस बार बनाए जाने वाले सेंटरों के लिए विशेष मानक तय किए गए थे लेकिन नकल माफिया और जिला विद्यालय निरीक्षक की साठगांठ से आगरा जिले में एक बड़ा खेल खेला गया है जिसमें मानकों को दरकिनार कर परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

– डिबार किये कॉलेजों को बनाया गया परीक्षा केंद्र

आगरा जिले मे तीस से ज्यादा स्कूलों मे बनाये गये परीक्षा केन्द्र सरकारी मानको का उल्लंघन कर रहे हैं। जिन विद्यालयों ने अपनी क्षमता का खुलासा अपनी रिपोर्ट में किया है। शिक्षा विभाग ने उनकी क्षमताओं को जबरन बढ़ाकर परीक्षा केंद्र बनाया है। दरअसल इन विद्यालयों मे 800 परीक्षार्थी से कम क्षमता का होने पर इन्हें परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जा सकता था लेकिन विभाग ने जबरन इन्हें क्षमता में लाकर इन्हें परीक्षा केंद्र बनाया। साथ ही पूर्व में डिबार किये गए कॉलेजों को भी परीक्षा केंद्र बनाया गया। इसके लिए मोटी रकम की उगाही की गई।

– करोड़ो का हुआ है भ्रष्टाचार

इन विद्यालयों की सूची शिक्षा विभाग की  वेबसाइट  upmsp.edu.in पर भी उपलब्ध है। उत्तर प्रदेश विद्यालय प्रबंधक परिषद ने ऐसे 31 विद्यालयों की सूची का खुलासा किया है। समिति के प्रदेश अध्यक्ष दीपक चौहान का आरोप है कि इस मामले में करोड़ों रुपए की उगाही डीआईओएस आगरा विनोद राय और उनकी टीम ने की है।

उत्तर प्रदेश विद्यालय प्रबंधक परिषद ने इसकी शिकायत 112 पन्ने की रिपोर्ट  सबूतों के साथ मुख्यमंत्री से लेकर शिक्षा सचिव तक की है लेकिन पूरे मामले पर किसी तरह की कार्यवाही अभी तक नहीं की गई। परिषद की मांग है कि शिक्षा विभाग से अलग हटकर इस पूरे मामले की जांच की जाए जिससे इस रैकेट का खुलासा हो सके।

इतना ही नहीं परिषद का साफ आरोप है की सरकार नकल रोकने की चाहे जितने इंतजाम कर ले सीसीटीवी कैमरे लगवा ले लेकिन नक़ल का सिलसिला थमने वाला नहीं। नकल माफिया रास्ते में ही कापियों को बदलकर नकल बेखौफ होकर अपने कारनामों को अंजाम दे रहे हैं इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से आगरा में कुल 176 विद्यालय परीक्षा केंद्र बनाए गये थे लेकिन बोर्ड के निर्देशों के बावजूद 11 अन्य विद्यालयों को भी इसमें शामिल कर परीक्षा केंद्रों की संख्या 187 कर दी गई।

– इन पर लगाये गंभीर आरोप

दीपक चौहान ने बताया कि शिक्षा विभाग में चल रही इस अवैध उगाही में डीआईओएस विनोद कुमार राय, परीक्षा प्रभारी राजीव शर्मा और पुनीत रायजादा शामिल हैं।

आगरा जिले में मानकों के विपरीत बनाये गए परीक्षा केंद्र –

सेंट क्लाज़ इंटर कॉलेज, सिरौली रोड, धनौली
श्री उदय वीर सिंह इंटर कॉलेज, जोनई
ज्ञान भारती गर्ल्स इंटर कॉलेज, राजपुर
स्वामी विवेकानंद इंटर कॉलेज, जौरा कटरा
श्रीमति शांति देवी गर्ल्स इंटर कॉलेज, नौमील
SSN इंटर कॉलेज, मिढाकुर
GM इंटर कॉलेज, रामपुर बाबरोड।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*