Home प्रशासन ‘कमलानगर-बलकेश्वर क्षेत्र में जल्द लगेगी महाराजा अग्रसेन की अष्टधातु की प्रतिमा’ – आगरा महापौर

‘कमलानगर-बलकेश्वर क्षेत्र में जल्द लगेगी महाराजा अग्रसेन की अष्टधातु की प्रतिमा’ – आगरा महापौर

by admin
Ashtadhatu statue of Maharaja Agrasen will soon be installed in Kamalanagar-Balkeshwar area' - Agra Mayor, Mayor
Spread the love

आगरा। आज शुक्रवार को आगरा नगर निगम के कार्यकारिणी कक्ष में कमला नगर एवं बल्केश्वर अग्रवाल समाज के एक प्रतिनिधि मंडल ने महापौर नवीन जैन से मुलाकात की और आगरा के वैश्य बाहुल्य क्षेत्र कमला नगर बलकेश्वर के मध्य में उचित स्थान तय कर महाराजा अग्रसेन उद्यान विकसित करने के साथ-साथ महाराजा अग्रसेन की अष्टधातु की प्रतिमा स्थापित किए जाने की मांग की।

ज्ञापन के माध्यम से अग्रवाल समाज ने महाराजा अग्रसेन के जीवन इतिहास के बारे में बताते हुए जानकारी दी कि महाराजा अग्रसेन का जन्म सूर्यवंशी भगवान श्री राम जी के पुत्र कुश की 34वीं पीढ़ी में द्वापर के अंतिम काल एवं कलयुग के प्रारंभ में अश्वनी शुक्ला एकम को हुआ था। मात्र 15 वर्ष की आयु में अग्रसेन जी ने महाभारत के युद्ध में पांडवों के पक्ष में युद्ध लड़ा था। भगवान श्री कृष्ण ने महाराज जी को दिव्य ज्ञान देकर राजकाज संभालने का निर्देश दिया था।

एक बार अग्रोहा में अकाल पड़ने पर जब चारों ओर त्राहि-त्राहि मच गई थी, ऐसे में महाराज जी ने ‘1 ईंट और 1 रुपया’ के सिद्धांत की घोषणा की। जिसके अनुसार नगर में आने वाले हर नए परिवार को नगर में रहने वाले हर परिवार की ओर से एक ईट और ₹1 रुपया दिया जाए। ईटों से वह अपने घर का निर्माण करें और रुपयों से व्यापार करें। इस तरह महाराजा अग्रसेन जी को समाजवाद के प्रणेता के रूप में पहचान मिली। उन्हीं की विचारधारा का प्रभाव है कि आज भी अग्रवाल समाज शाकाहारी, अहिंसक एवं धर्म परायण के रूप में प्रतिष्ठित है। महाराजा अग्रसेन जी ने 108 वर्षों तक राज्य किया। एक निश्चिंत आयु प्राप्त करने के बाद वे अपने ज्येष्ठ पुत्र विधु के हाथों राज्य का शासन सौंपने के बाद तपस्या करने चले गए।

महाराजा अग्रसेन के नाम पर 24 सितंबर 1976 में भारत सरकार में 25 पैसे का डाक टिकट जारी किया था। सन 1995 में भारत सरकार ने दक्षिण कोरिया से 350 करोड़ रुपए में एक विशेष तेल वाहक जहाज खरीदा जिसका नाम महाराजा अग्रसेन रखा गया। राष्ट्रीय राजमार्ग – 10 का आधिकारिक नाम महाराजा अग्रसेन के नाम पर है।

अग्रवाल समाज से जुड़े तमाम प्रबुद्ध जनों ने महापौर नवीन जैन के समस्त ज्ञापन के माध्यम से बात रखी कि शहर के प्रमुख बाजारों का व्यापारी करण होने के कारण शहर में रहने वाले अग्रवाल समाज के लोग कमला नगर एवं बलकेश्वर क्षेत्र में रहने लगे हैं। जिनकी आबादी लगभग एक लाख के आसपास है जो कि अब बहुत बड़ी संख्या में समाज एकत्रित हो गया है। इस क्षेत्र में किसी भी मुख्य मार्ग पर महाराजा अग्रसेन जी की प्रतिमा नहीं है। हमारी आने वाली पीढ़ी महाराजा अग्रसेन के जीवन दर्शन और सामाज हित मे दिए योगदान को जान सके इसके लिए महाराजा अग्रसेन के दर्शन होना अति आवश्यक है।

कमला नगर, बलकेश्वर अग्रवाल समाज ने महापौर नवीन जैन से मांग की कि कमला नगर बलकेश्वर के मध्य क्षेत्र में उचित स्थान तय कर न केवल महाराजा अग्रसेन जी की अष्टधातु की भव्य विशाल प्रतिमा लगाई जाए बल्कि उसके आसपास चारों ओर महाराजा अग्रसेन उद्यान बनाया जाए।

महापौर नवीन जैन ने कमला नगर बलकेश्वर अग्रवाल समाज द्वारा दिए गए ज्ञापन के माध्यम से उनकी मांग को स्वीकार किया और मौके पर ही घोषणा की कि कमला नगर और बलकेश्वर क्षेत्र के मध्य में उचित स्थान तय कर महाराजा अग्रसेन की अष्टधातु की विशाल व भव्य प्रतिमा स्थापित की जाएगी। जैसे ही महापौर ने उनकी मांग को स्वीकारते हुए यह घोषणा की वैसे ही पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। सभी ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि अग्रवाल समाज सदैव आपका ऋणी रहेगा और सामाजिक एवं राजनैतिक कार्य में आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर हमेशा कार्य करेगा।

इस मौके पर बंगाली मल अग्रवाल, राजेश अग्रवाल गौशाला महामंत्री, संजय अग्रवाल कोषाध्यक्ष भाजपा महानगर, राकेश जैन गौशाला सोसाइटी, मुरारी प्रसाद अग्रवाल, प्रेम सागर अग्रवाल, नरेंद्र बंसल चांदी वाले, अतुल बंसल, राकेश मंगल, आर जे अग्रवाल, सुनील अग्रवाल, रीनेश मित्तल, गोपाल अग्रवाल, नितेश अग्रवाल अध्यक्ष सर्राफा एसोसिएशन, विनोद अग्रवाल वैश्य एकता परिषद, मुरारी लाल गोयल ‘पेंट’ आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन प्रदीप अग्रवाल द्वारा किया गया।

Related Articles