Home agra प्लेटफार्म पर रेकी के बाद रेलगाड़ी से पार करते थे यात्रियों के बैग, जीआरपी ने दो लुटेरे पकड़े

प्लेटफार्म पर रेकी के बाद रेलगाड़ी से पार करते थे यात्रियों के बैग, जीआरपी ने दो लुटेरे पकड़े

by admin
After Reiki on the platform, the bags of passengers used to cross through the train, GRP caught two robbers

आगरा। जीआरपी ने पकड़े दो लुटेरे। प्लेटफार्म पर रेकी के बाद रेलगाड़ी से पार करते थे यात्रियों के बैग।

जीआरपी आगरा कैंट को बड़ी सफलता हाथ लगी है जीआरपी आगरा कैंट ने दो अन्तर्राज्यीय शातिर लुटेरो को गिरफ्तार किया है जिनसे सोने व चाँदी के आभूषणों के साथ साथ एंड्रॉयड मोबाइल फोन भी बरामद किये है।

जीआरपी आगरा कैंट ने दोनों शातिर लुटेरों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर जेल भेज दिया है। बीतीरात आगरा कैंट स्टेशन पर चेकिंग के दौरान जीआरपी और आरपीएफ की संयुक्त चेकिंग टीम ने खेरिया पुल के नीचे आगरा कैण्ट रेलवे स्टेशन से दो अन्तर्राज्यीय शातिर लुटेरे अपराधियों को गिरफ्तार किया।

अभियुक्तों के नाम व पता.

संजू विश्वकर्मा पुत्र मस्तराम विश्वकर्मा निवासी वीर सावरकर वार्ड थाना बीना जिला सागर ;म0प्र0द्ध उम्र. 25 वर्ष।
मोहम्मद अमानी उर्फ अमन पुत्र मोहम्मद चमन निवासी 24ध्154 बागराम सहाय पूनिया पाडा थाना लोहा मण्डी जनपद आगरा उम्र.25 वर्ष।

बरामदगी

01 सोने की चैन ।
02 सोने की अंगूठी।
01 सोने की चूडी।
01 चाँदी की कमर करधनी ।
06 नग विछिया चाँदी के ।
02 एंड्रॉयड मोबाइल फोन ।

पूछताछ करने पर अभियुक्त गण ने बताया कि हम लोग अपने भौतिक व आर्थिक लाभ के लिए योजना बनाकर ट्रेनों व रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों के मोबाइल व अन्य कीमती सामान की चोर, ध्लूट करते हैं। सबसे पहले हम लोग टिकट लेकर रेलवे स्टेशनों में अन्दर घुस जाते है। इसके बाद हम लोग प्लेटफार्म एवं प्रतीक्षालयों में बैठे यात्रियों के सामान की रैकी करते हैं।

जिन यात्रियों की रैकी की है वह यात्री जब ट्रेनों में बैठकर जाने लगते है तो हम लोग उनके पीछे लग जाते हैं और उनके आस पास की सीटों पर बैठ जाते हैं । जब रात्रि का समय हो जाता है और अधिकतर यात्री सो जाते हैं उस समय हम लोग पूर्व से नियोजित तरीके से आउटर व कॉसन में ट्रेन की गति धीमी होने पर उन यात्रियों के कीमती सामान को लूटध्चोरीध्छींनकर धीमी गति से चलती ट्रेन से कूद जातें है।

इसके बाद आस .पास की झाडियों में छिप जाते हैं। बाहर आकर चोरी किये गये सामान आदि को कम पैसों में बैच देतें है। यही हम लोगों का मुख्य पेशा है। हम लोग काफी दिनों से यही काम कर रहें है।

Related Articles

Leave a Comment

%d bloggers like this: