सदमे से हुई किसान की मौत, डीएम ने दिए जांच के आदेश

आगरा। सब्जियों का राजा का आलू अब किसानों की जान लेने लगा है। आगरा के बरहन क्षेत्र के एक गांव में आलू में लगातार घाटे के चलते कर्ज में डूबे किसान की सदमे से मौत हो गई।

दरअसल थाना बरहन क्षेत्र के गांव नगला चोब सिंह निवासी 45 वर्षीय किसान रामप्रकाश पुत्र नरायन सिंह कई वर्षों से अपने 22 बीघा खेत में आलू की खेती करते हैं लेकिन विगत 2 वर्षों से आलू की गिरी कीमतों से रामप्रकाश के खाने के भी लाले पड़ गए। रामप्रकाश की पत्नी कमलेश देवी ने घर के खर्च के लिए एक जमींदार के यहां 12 लाख रूपए गिरवी रख दिया था। किसान पर 3 लाख रूप्ए ट्यूबबैल का बिल भी बकाया है।

किसान के तीन पुत्र व एक पुत्री है लेकिन घर का खर्चा चलना मुश्किल हो गया था। सिर्फ आशा थी कि इस बारी आलू की फसल अच्छी होगी तो सारा कर्जा चुक जाएगा लेकिन जैसे रामप्रकाश ने आलू की खुदाई शुरू की तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। जिस खेत में एक बीघा जमीन में करीब 50 से ज्यादा आलू के कट्टे निकलते थे उसमें केवल 20 कट्टे ही निकले जिसके बाद किसान रामप्रकाश हताश हो गया। कल रात सोमवार को उसकी तबियत बिगड़ गई। परिजन इलाज के लिए आगरा ले गए जहां उसकी मौत हो गई।

परिजनों ने रामप्रकाश की बाॅडी को पास्टमार्टम के लिए भेज दिया। मामला जिलाधिकारी आगरा के संज्ञान में आने पर एसडीएम एत्मादपुर रजनीष मिश्रा को जांच के आदेश दिए जिससे किसान के परिजनों को मुआवजा देकर राहत दी जा सके। इसी क्रम में आज मंगलवार दोपहर को उपजिलाधिकारी एत्मादपुर के निर्देश पर नायब तहसीलदार गजेन्द्र पाल सिंह को जांच के लिए लेखपाल व अन्य कर्मचारियों को मृतक किसान के गांव में भेजा जहां नायब तहसीलदार ने सब तथ्यों को परखने के बाद आगे की कार्यवाही शुरू कर दी।

एत्मादपुर से पवन शर्मा की रिपोर्ट

About admin 5852 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*