संदिग्ध युवकों के पास मिले बैग में ये देखकर पुलिस के उड़े होश

मथुरा। अक्सर आपने फिल्म और क्राइम सीरियलों में देखा हुआ कि कोई डेड बॉडी प्लेटफॉर्म पर एक बैग में पड़ी हुई मिली है कोई किसी की हत्या करके उसका शव बैग में बंद करके होटल में छोड़ गया है लेकिन मथुरा पुलिस के साथ यह यह घटना असल जिंदगी में घट गई है। मथुरा पुलिस ने दो युवकों को एक बड़ा बैग ले जाते हुए देखा जिसमें से खून निकल रहा था। पुलिस ने जब इन युवाओं को रोकने का प्रयास किया तो यह लोग भागने लगे। पुलिस ने घेराबंदी कर इन लोगों को पकड़ा। पुलिस ने बैग खोलकर सच जानने का प्रयास किया तो वह खुलते ही मथुरा पुलिस के होश उड़ गए  उस बैग में एक युवक का शव निकला जिसके दो टुकड़े हो रखे थे। पुलिस ने इन युवाओं को तुरंत हिरासत में लिया और पूछताछ कर कानूनी कार्रवाई कर जेल भी भेज दिया। इस पूरे मामले की जानकारी पुलिस के आला अधिकारियों ने एक प्रेस वार्ता के माध्यम से दी।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अपराधियों पर अंकुश लगाने के लिए विशेष चेकिंग अभियान के तहत अभियान प्रभारी निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह मय उप-निरीक्षक विपिन कुमार गौतम मय हमराही कर्मचारीगण के वाहन चेकिंग कर रहे थे। इस दौरान इस्कॉन मंदिर के पीछे NBT गेस्ट हाउस वाली गली में पहुंचने पर दो व्यक्ति एक बड़ा सा बैग लेकर सड़क के किनारे खड़े हुये थे। पूछताछ करने पर भागने लगे। बैग खोलकर देखा तो उसमे शव निकला जिसकी शिनाख्त दीपान्शु के रूप में हुई। पुलिस ने विशाल त्यागी पुत्र अरुण कुमार त्यागी और पौरुष समाधिया पुत्र सुनील कुँअर समाधिया और मनोज उर्फ़ बिट्टू को तुरंत हिरासत में ले लिया।

आरोपियों ने बताया कि फ्लैट नंबर 1206 डी ब्लॉक प्रस्टीन एवेन्यू गौर सिटी नोएडा एक्सटेंशन गौतम बुद्ध नगर में पार्टी के दौरान शराब के नशे में दीपांशु फ्लैट पर तोड़फोड़ करने लगा। जिसके चलते आपस में कहासुनी हो गई और फिर अपने साथी पौरुष और मनोज महादेव के साथ मिलकर अपने सगे मामा के लड़के दीपांशु की गला दबाकर हत्या कर दी औऱ चाकू से काटकर शव अलग दो हिस्से कर बैग में रख कर लेकर आये। डेड बॉडी को फ्लैट पर रखे हुए काफी समय हो गया था। शव को ठिकाने लगाने के लिए योजना बनाई और योजना को अंजाम देने के लिए नोएडा एक्सप्रेस वे से वृंदावन आए थे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*