यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी स्कूली बस, दर्ज़नो बच्चे घायल, एक की मौत

खंदौली। आगरा से दिल्ली की दूरी कम करने के लिए यमुना एक्सप्रेस वे तैयार कराया गया था लेकिन यमुना एक्सप्रेस वे अब लोगों की जान लेने वाला एक्सप्रेस वे बन गया है। गुरुवार को जूता कारोबारी यमुना एक्सप्रेस पर एक्सीडेंट के दौरान मौत हो गई थी तो शुक्रवार सुबह यमुना एक्सप्रेस वे पर छोटे-छोटे बच्चों की चीख-पुकार से गूंज उठा। नॉएडा से आगरा आ रही एक स्कूली बस का टायर फटने से बस पलट गयी जिससे उसमे मौजूद दर्जनों बच्चे घायल हो गए और एक बच्चे की मौत की सूचना आ रही है।

शुक्रवार सुबह हिमाचल प्रदेश से स्कूल की बस आगरा ताजमहल भ्रमण के लिए आ रही थी। इस स्कूली बस में अमर भारती स्कूल के छोटे-छोटे बच्चे थे। खंदौली के निकट स्कूली बस का टायर अचानक से फट गया और बस अनियंत्रित होकर पलट गई। इस घटना में दर्जनों स्कूली बच्चे घायल हुए हैं जिन्हें आगरा के एसएन सहित कई निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

खंदौली के निकट यमुना एक्सप्रेस वे पर जैसे ही स्कूल बस पलटी घटना पर मौजूद लोगों ने दौड़ लगा दी और बस से बच्चों को बाहर निकालना शुरू कर दिया। साथ ही बच्चों को तुरंत उपचार मिल सके इसके लिए क्षेत्रीय लोगों ने पुलिस को भी तुरंत सूचना दे दी। यह हादसा इतना दर्दनाक था कि बचाव कार्य में लगे लोगों की रूह तक कांप गई लोगों ने लहूलुहान छोटे-छोटे स्कूली बच्चों को बस से निकाला। बच्चों को लहूलुहान देखकर बचाव कार्य में लगे लोग भी चीखने लगे और बच्चों को तुरंत निजी अस्पताल में ले जाने की बात कहने लगे जिससे बच्चों को बचाया जा सके।

घटना की सूचना मिलते ही खंदौली सहित कई थानों का फोर्स मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने राहत-बचाव को तेजी लाने के लिए घटनास्थल पर क्रेन को भी बुलवाया। क्रेन के माध्यम से पलटी हुई बस को सीधा किया गया। इस पूरे मामले पर जिले के पुलिस कप्तान अमित पाठक और जिलाधिकारी गौरव दयाल निगाहें बनाए हुए हैं। साथ ही दोनों बड़े अधिकारियों ने एसएन के साथ-साथ निजी अस्पतालों में भर्ती बच्चों से भी मुलाकात की और चिकित्सकों को उनके इलाज में किसी भी तरह की लापरवाही ना बरतने के दिशा निर्देश दिए हैं जिससे घायल बच्चों का अच्छे से इलाज हो सके।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*